देखें: कोरोना से जंग जीत जमातियों ने मांगी देश और डॉकटरों के लिए दुआ, आज 19 हुए डिस्चार्ज

खंडवा : कोरोना संक्रमण के बढ़ते खतरे के बीच खंडवा से अच्छी खबर मिल रही हैं। खंडवा में आज कोरोना महामारी से संक्रमित 19 मरीजों को आ ठीक होने के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया। यह खंडवा जिले के लिए सबसे बड़ी उपलब्धि के तौर पर देखा जा रहा हैं। खंडवा में अबतक कुल 46 कोरोना पॉजिटिव केस मिले हैं जिनमें से अब तक 31 लोग ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं। वहीं जिले में अब तक इस महामारी के चलते तीन मौते भी हुई हैं। आज डिस्चार्ज हुए 19 लोगों में बड़ी संख्या में जमाती शामिल थे। डिस्चार्ज होने के बाद अस्पताल परिसर में ही इन लोगों ने सभी डॉक्टर्स , सरकार और देश के लिए दुआ मांगी।

खंडवा में बुधवार का दिन अच्छी खबर लेकर आया। बुधवार को खंडवा जिला अस्पातल के कोविड केयर सेंटर से 19 लोगों को ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किया गया। डिस्चार्ज किये गए मरीजों में बड़ी संख्या जमात से जुड़े लोगों की थी। वहीं ड्यूटी के दौरान कोरोना की चपेट में आए एक सब इंस्पेकटर ने भी कोरोना की इस जंग को जीत आज घर वापसी की। डिस्चार्ज होने के बाद सभी जमातियों ने अस्पताल प्रबंधन और सरकार का शुक्रिया अदा करने के लिए दुआ मांगी। साथ ही सभी से अपील करी की अगर किसी को भी इस बीमारी के लक्षण दीखते है तो तुरंत अपनी जांच कराए।


कोरोना से जंग लड़ने में प्लाज्मा को कारगर हथियार के तौर पर देखा जा रहा हैं। ऐसे में ठीक हो कर अपने घर जा रहे इन जमातियों ने भी कहा की अगर उनका प्लाज्मा अगर किसी के काम आए तो हम सभी प्लाज्मा देने के लिए तैयार हैं। जब कहा जाएगा तब हम प्लाज्मा देंगे ताकि पूरा मुल्क कोरोना से लड़ाई में जीते।

कोरोना की जंग जीत चुके बोरगांव चौकी के सब इंस्पेकटर राधेश्याम मालवीय ने कहा कि ड्यूटी के दौरान कही संकर्मित हुए थे। उन्होंने कहा की डॉकटरों के निर्देशों का सभी ने पालन किया। सब इंस्पेकटर ने अस्पताल के सफाई कर्मियों का धन्यवाद देते हुए कहा कि उन्हें सफाई कर्मी न कहते हुए हेल्थ ऑफिसर के नाम से बुलाया जाना चाहिए। सब इंस्पेकटर मालवीय ने कहा कि जमात से जुड़े लोग भी उनके साथ थे सभी ने अच्छा व्यव्हार किया। उन्होंने कहा की वहां न तो कोई जमाती गिना जाता था न हिन्दू मुसलमान। सभी अच्छे से साथ में रहे हैं और कोरोना को मिल कर हराया हैं।

इधर जिला कलेक्टर भी स्वास्थ्य विभाग की इस कामयाबी को बड़ी कामयाबी मानती हैं उन्होंने कहा कि बहुत मेहनत से आज हम इस स्थिति में आये हैं की हम इतने लोगों को ठीक कर उनके घर भेज रहे हैं। जबकि अन्य जिले के लोगों को इंदौर रेफर कर उनका वहां इलाज कराया जा रहा है लेकिन हमने यहीं इन मरीजों का पूरा ख्याल रखा और आज हमने उन्हें अच्छा कर घर भेजा हैं।

हालांकि खंडवा में 10 और नए मरीज मिलने से अभी भी खंडवा की स्थिति चिंताजनक बनी हुई हैं।