भारत के लोकप्रिय संगीतकार ए. आर. रहमान ने कहा है कि भारत के ‘#MeToo’ अभियान में इतनी क्षमता है कि वह मनोरंजन उद्योग को साफ-सुथरा कर सके और महिलाओं के प्रति सम्मानपूर्ण माहौल बना सके।

ऑस्कर पुरस्कार से सम्मानित 51 वर्षीय रहमान ने सोशल मीडिया के जरिए सोमवार की रात अपनी यह बात फैन्स के साथ शेयर की।

उन्होंने कहा कि उनका लक्ष्य हमेशा से महिलाओं के लिए एक सुरक्षित वर्क स्टेशन का माहौल बनाने का रहा है।

उन्होंने कहा, ‘#मी टू अभियान देख रहा हूं। कुछ पीड़ितों और आरोपियों के नामों ने मुझे चौंकाया…मुझे अच्छा लगेगा अगर हमारी इंडस्ट्री साफ-सुथरी हो और यहां महिलाओं के लिए सम्मानपूर्ण माहौल हो। उन सभी पीड़ितों को शक्ति और मजबूती मिले जो आगे आकर अपनी बात रख रही हैं।’

उन्होंने लिखा, ‘मैं और मेरी टीम ऐसा माहौल बनाने के लिए कमिटेड रहते हैं जहां सभी को अपना बेस्ट काम करने के लिए सुरक्षित माहौल मिल सके, वह आगे बढ़ सकें और सफलता पा सकें।’

हालांकि रहमान का यह भी कहना था कि इंटरनेट जस्टिस सिस्टम (इंटरनेट न्यायिक प्रणाली) बनाने से पहले लोग सावधानी बरतें।

उन्होंने कहा, ‘सोशल मीडिया पीड़ितों को अपनी बात रखने के लिए स्वतंत्रता प्रदान करता है। अगर इसका गलत इस्तेमाल किया जाता है तो हमें इसे नया इंटरनेट जस्टिस सिस्टम बनाने में सावधानी बरतनी चाहिए।’

रहमान का यह बयान लंबे समय से उनके साथ गीत लेखन करने वाले सहयोगी वैरामुत्तु पर लगे अभद्र व्यवहार के कई सप्ताह बाद आया है। उन पर सिंगर चिन्मय श्रीपदा सहित अन्य महिलाओं ने आरोप लगाए थे।