Home > India > प्रदेश में डेंगू से 500 मौतों के बाद भी सो रही सरकार

प्रदेश में डेंगू से 500 मौतों के बाद भी सो रही सरकार

After 500 deaths from dengue in the state government sleepingभोपाल [ TNN ]  आपको ये आंकडे भले ही चौंकाने वाले लगे लेकिन सच यह है कि डेंगू के कहर से पूरे प्रदेश में मौतों को आंकडा पांच सौ को पार हो गया है। इससे न राजधानी अछूती है और न ही दूरस्थ जिले के शहर या गांव,लेकिन दुर्भाग्य यह है कि पूरा स्वास्थ्य अमला इस मामले में लेतलाली बरत रहा है और शासन ने युद्धस्तर पर कोई कदम न उठाते हुए इसे सिर्फ स्वास्थ्य विभाग के नाकारा अधिकारियों के भरोसे छोड दिया है।
 
यह आरोप आम आदमी पार्टी मध्यप्रदेश की प्रदेश टीम के सचिव अक्षय हुन्का ने लगाए। उन्होंने कहा कि गर्मी का मौसम खत्म होने के बाद से ही जिले में डेंगू का प्रकोप फैलना शुरू हो गया था। जुलाई,अगस्त,सितम्बर तक ही यदि स्वास्थ्य विभाग के अधिकृत आंकडे देखें तो डेंगू के पाजीटिव मरीजों की संख्या एक हजार को पार कर गई थी। ये तो वो आंकडे जो विभाग के मैदानी अमले को सामने लाने पडे लेकिन बहुत सारे मरीज तो सरकारी अस्पतालों में आते ही नहीं। या तो वे शहर के निजी अस्पतालों के चंगुल में फंस जाते हैं या गांव के झोलाछाप डाक्टरों के चंगुल में। अक्टूबर के आखिर तक डेंगू मरीजों की अधिकृत संख्या का आंकडा डेढ हजार को पार कर गया है। लेकिन आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा गांव—गांव से मिली जानकारी के अनुसार वास्तविक आंकडा इससे दस गुना ज्यादा है। 
 
प्रदेश सचिव श्री हुन्का ने कहा कि यदि राजधानी का ही हाल देखें तो यहां दर्जन भर मौतें हो चुकी हैं और पूरे प्रदेश में यह आंकडा पांच सौ से उपर पहुंच चुका है। इनमें सर्वाधिक मौतें आदिवासी बाहुल्य वाले जिले मंडला,बालाघाट,सिवनी,छिंदवाडा,बैतूल,अलीराजपुर,झाबुआ,नीमच आदि हैं। इन इलाकों में न सिर्फ डाक्टरर्स की कमी है बल्कि जांच आदि के उचित इंंतजाम भी नहीं है।प्राइवेट डाक्टर और अस्पताल इसका फायदा उठाकर लोगों को लूट रहे हैं और न तो प्रदेश सरकार और न ही केन्द्र सरकार इस संबंध में कोई कदम उठा रही है।
 
आप नेता ने कहा कि शासन को सभी विभागों को इस दिशा में लगाना चाहिए और गांव—गांव डेंगू से बचाव के साथ—साथ वहीं जांच और ईलाज की व्यवस्था करनी चाहिए। साथ ही इसे महामारी भी घोषित कर पीडितों को फ्री ईलाज दिलवाना चाहिए।
Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com