भोपाल : छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान समाप्त हो गया है जिसके बाद अब प्रदेश के कांग्रेस नेता मध्य प्रदेश के चुनावी दंगल में उतरने के लिए आलाकमान के निर्देशों का इंतजार कर रहे हैं। इसको लेकर कुछ नेताओं का कहना है कि अविभाजित मध्य प्रदेश के समय से ही कुछ नेता राजनीति कर रहे हैं और यही कारण है कि वे राजस्थान, तेलंगाना या फिर मिजोरम न जाकर मध्य प्रदेश में चुनाव प्रचार करने के लिए इच्छुक हैं।

इन नेताओं में कुछ पहले पदाधिकारी और मंत्री भी रह चुके हैं। वहीं, सूत्रों का कहना है कि एक-दो दिनों में इन नेताओं को मध्य प्रदेश जाने का निर्देश मिल सकता है। हालांकि कौन-कौन पार्टी के लिए प्रचार करेगा, इसका खुलासा नही्ं हुआ है। छत्तीसगढ़ में मतदान के बाद इन नेताओं का पूरा ध्यान मध्य प्रदेश पर है।

छत्तीसगढ़ के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा है कि पार्टी की तरफ से निर्देश मिलते ही नेताओं को मध्य प्रदेश भेजा जाएगा। इसके अलावा, तेलंगाना, राजस्थान और मिजोरम में भी चुनाव प्रचार के लिए इनको भेजा जाएगा। वे खुद भी मध्य प्रदेश से अनजान नहीं हैं। जबकि आदिवासी नेता अरविंद नेताम तो पहले मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष भी रह चुके हैं। इसी प्रकार सीएम रमन सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ने वाली पूर्व सांसद करुणा शुक्ला को भी मध्य प्रदेश भेजा जा सकता है।