Home > India > अरुण का आक्रामक रुख कहा “पहले जैसा अब नहीं चलेगा”

अरुण का आक्रामक रुख कहा “पहले जैसा अब नहीं चलेगा”

last page
भोपाल –
प्रदेश कांग्रेस में अब प्रवक्ताओं के काम-काज की रिपोर्ट तैयार होगी। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने प्रवक्ताओं के हर दिन का रिकार्ड तैयार करने के लिए कहा है। मंगलवार को यादव ने बैठक के दौरान साफ कहा कि यह सरकारी नौकरी नहीं है। ठीक से काम करो और जो काम नहीं करेगा, उसे बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा।

प्रदेश कांग्रेस में मंगलवार को बैठकों का दौर चला। पहले पार्षदों का सम्मान कार्यक्रम हुआ, जिसमें पार्षदों को आक्रामक तेवरों के साथ काम करने की नसीहत दी गई। इसके बाद प्रवक्ताओं की बैठक हुई। इसमें सभी संभागीय प्रवक्ताओं को भी बुलाया गया था। सूत्रों के मुताबिक बैठक में अध्यक्ष ने संभागीय प्रवक्ताओं के लिए नई गाइड लाइन व असाइनमेंट दिए। इसमें संभागीय प्रवक्ताओं को पहले से अधिक सक्रियता के साथ काम करने के लिए कहा गया। यह भी निर्देश दिए गए कि अपने संभाग में जिला प्रवक्ताओं की एक पैनल बनाए और प्रदेश मुख्यालय से उनकी ट्रेनिंग कराएं। यादव ने प्रवक्ताओं के कामकाज पर नाखुशी जाहिर करते हुए कहा कि जो ठीक तरह से काम नहीं करेगा, उसे आगे नहीं रखा जाएगा। पहले जैसा अब नहीं चलेगा। प्रवक्ताओं के लिए एक प्रोफार्म भी तय कर दिया गया है, जिसमें उन्हें बताना होगा कि किस दिन चैनल पर गए और क्या गतिविधि रही।

प्रदेश अध्यक्ष ने भाजपा सरकार को घेरने की रणनीति भी बनाई। इसके तहत प्रवक्ताओं को काम बांट दिया गया है। इसमें भाजपा सरकार के पिछले व मौजूदा बजट के पोस्टमार्टम के निर्देश दिए गए। इसमें सरकार के खर्च, कर्ज, घोषणाएं-योजनाओं का पूरा हिसाब तैयार करने को कहा गया। संभावना है कि बजट सत्र शुरू होते ही कांग्रेस पिछले बजट का काला-चिट्ठा उजागर करेगी।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रदेश कांग्रेस के चुनिंदा पदाधिकारियों के साथ भी आगामी रणनीति को लेकर मंथन किया। इसमें सदस्यता अभियान को लेकर विचार-विमर्श हुआ। कसरावद जनपद पंचायत से चुनाव जीतने वाले कार्यकर्ता प्रदेश अध्यक्ष से मिलने आए थे। उनसे भी यादव ने मुलाकात की। इसके अलावा यादव ने पार्टी की रणनीति को लेकर दिग्गज नेताओं से भी फोन पर चर्चा की।

लंबे समय बाद प्रदेश कांग्रेस प्रभारी मोहन प्रकाश बुधवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पहुंचेंगे। विधानसभा चुनाव में शिकस्त के बाद ही मोहन प्रकाश दूर हो गए थे। फिर उन्होंने लोकसभा चुनाव के समय भी भोपाल से दूरी बनाए रखी। बुधवार को मोहनप्रकाश वरिष्ठ नेताओं की बैठक लेंगे।

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com