अयोध्या : बिना किसी बाधा के राम मंदिर निर्माण के लिए विश्व वेदांत संस्थान की ओर से 1 से 4 दिसंबर तक अश्वमेध यज्ञ किया जाएगा।

अयोध्या में होने वाले इस यज्ञ को 1008 पंडित मिलकर पूरा करेंगे। इसमें 11000 संत शामिल होंगे।

संस्थान के संस्थापक आनंद महाराज ने शुक्रवार को यहां प्रेसवार्ता में बताया कि अयोध्या में राम मंदिर बनकर रहेगा।

श्रीराम मंदिर निर्माण के आंदोलन को जन आंदोलन बनने से कोई रोक नहीं सकता। साधु-संत और भारत की आम जनता इसके लिए कमर कस चुकी है।

अश्वमेध महायज्ञ श्रीराम मंदिर निर्माण की दिशा में पहला कदम है। मंदिर का निर्माण संतों के आदेश और निर्देशन में ही होगा।

उन्होंने बताया कि विश्व वेदांत संस्थान का केंद्र नीदरलैंड में है। भारत के 21 प्रदेशों में करीब 10 लाख सदस्य अब तक संस्थान से जुड़ चुके हैं।