Home > India > कान्हा टाइगर रिज़र्व की हिफाज़त में तैनात बेल्जियन शेफर्ड

कान्हा टाइगर रिज़र्व की हिफाज़त में तैनात बेल्जियन शेफर्ड

मंडला – कान्हा टाईगर रिजर्व जो विश्व में बाघ और बारहसिंघा सहित अनेक प्रकारों के वन्य जीवों के लिये मशहूर है की निगरानी अब एक विशेष प्रजाति के कुत्ते के जिम्मे है। इसमें भी दिलचस्प बात यह है कि यह कोई कुत्तों की फौज नहीं बल्कि सिर्फ एक कुत्ता है। इस विशेष कुत्ते की खासियत यह है कि ये बेल्जियन मैलिनिन या बेल्जियन शेफर्ड प्रजाति का कुत्ता है। यह प्रजाति कुत्तों में सबसे ख़ास मानी जाती है।

बेल्जियन शेफर्ड की खासियत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दुनिया का सबसे सुरक्षित व्यक्ति अमेरिकीराष्ट्रपति और उनके निवास स्थान वाइट हाउस की निगरानी भी इसी प्रजाति के कुत्तों के हवाले है। और तो और जब अमेरिकी सेना की विशेष टुकड़ी पाकिस्तान स्थित ऐटाबाद की हवेली में कुख्यात आतंकवादी ओसामा बिन लादेन को मारने पहुंची थी तो उनके विशेष दस्ते में खासतौर से प्रशिक्षित इसी बेल्जियन शेफर्ड प्रजाति के कुत्ते भी शामिल थे। अब इस प्रजाति पर वाइल्ड लाइफ की निगरानी का जिम्मा है। पुलिस ट्रेनिंग स्कूल भोपाल में 9 माह की विशेष ट्रेनिंग पूरी कर कान्हा नेशनल पार्क के अलावा संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान, पन्ना टाईगर रिजर्व और पेंच टाईगर रिजर्व को भी एक – एक कुत्ते प्रदान किये गये हैं। इन कुत्तों के साथ एक डॉग मास्टर और उसके एक सहयोगी को भी किया गया है। इन विशेष कुत्तों का प्रयोग मध्यप्रदेश में पहली बार राष्ट्रीय उद्यानों की सुरक्षा के लिये ही हो रहा है। अब तक मध्यप्रदेश पुलिस के पास भी इस ख़ास नस्ल का कोई भी कुत्ता नहीं है।

कान्हा राष्ट्रीय उद्यान के फील्ड डायरेक्टर संजय शुक्ला का कहना है कि इस कुत्ते के आने से कान्हा की सुरक्षा और पुख्ता होगी। यह विभिन्न मामलों के अनुसंधान में भी अपनी भूमिका निभायेगा। शिकारी भी इसकी पैनी निगाह से नहीं बच पायेंगे। इसके सेंसिज इतने तेज हैं कि यह दूर से ही अपराधियों की पहचान कर सकता है। यही वजह है कि पार्क प्रबंधन पार्क के आसपास भरने वाले हाट बाजारों में भी इसकी गश्ती कराता है ताकि वन संबधित अपराधों पर अंकुश लगाया जा सके।

@सैयद जावेद अली

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com