MP : कमलनाथ सरकार के खिलाफ भाजपा का ‘हल्ला बोल’

मध्य प्रदेश में आज भाजपा का हल्ला बोल है। प्रदेश के सभी ज़िला मुख्यालयों पर पार्टी नेता कलेक्ट्रेट का घेराव करेंगे। बीजेपी का ये प्रदर्शन राजगढ़ के कलेक्टर थप्पड़ कांड और प्रदेश में माफिया के खिलाफ कार्रवाई के विरोध में है।

हर ज़िला मुख्यालय पर पार्टी के वरिष्ठ नेता हल्ला बोल का नेतृत्व करेंगे। आज 24 जनवरी है। गणतंत्र दिवस परेड की आज फुल ड्रेस रिहर्सल होगी।

राजगढ़ में सीएए के समर्थन में भाजपा की रैली के दौरान अफसर और कार्यकर्ताओं के बीच हुए विवाद के बाद सियासी घमासान मचा हुआ है।

राजगढ़ विवाद सहित माफिया के खिलाफ कार्रवाई के विरोध में पार्टी आज हल्लाबोल कार्यक्रम के तहत सड़क पर उतरकर प्रदर्शन करेगी।

पार्टी के सीनियर लीडर्स इस आंदोलन का नेतृत्व करेंगे। बड़े नेताओं के नेतृत्व में सभी जिलों में कार्यकर्ता कलेक्ट्रेट का घेराव कर अपनी नाराजगी को जताएंगे।

बीजेपी ने जो प्लान तैयार किया है उसके तहत मुरैना में जय सिंह कुशवाहा, गुना में उमाशंकर गुप्ता, सागर में गौरीशंकर बिसेन, टीकमगढ़ में लाल सिंह आर्य, छतरपुर में विष्णु दत्त शर्मा, दमोह में जयंत मलैया, रीवा में भूपेंद्र सिंह, सतना में राजेंद्र शुक्ला, सीधी में रीति पाठक, अनूपपुर में ओम प्रकाश धुर्वे, जबलपुर में नरोत्तम मिश्रा, बालाघाट में ढाल सिंह बिसेन, होशंगाबाद में अरविंद भदौरिया, रायसेन में विश्वास सारंग, राजगढ़ में रामेश्वर शर्मा, इंदौर में राकेश सिंह, खंडवा में नंदकुमार सिंह चौहान, झाबुआ में सुदर्शन गुप्ता और रतलाम में जीएस डामोर को हल्ला बोल के नेतृत्व की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

भोपाल में बीजेपी का हल्ला बोल प्रदर्शन दोपहर 3 बजे होगा। पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान और सांसद प्रज्ञा ठाकुर यहां प्रदर्शन का नेतृत्व करेंगे।

ग्वालियर में सुबह 11.30 बजे नवीन कलेक्ट्रेट का घेराव कर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा जाएगा। ग्वालियर सांसद विवेक नारायण शेजवलकर यहां विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व करेंगे।

नीमच में पार्टी 1 बजे कलेक्टर कार्यालय का घेराव करेगी। उसका आरोप है कि मिलावट और माफिया के खिलाफ अभियान के बहाने कमलनाथ सरकार चुन चुनकर भाजपा नेताओ को निपटा रही है।

बीजेपी प्रदेश में माफिया के खिलाफ हो रही कार्रवाई को लेकर सरकार पर हमलावर है। उसका आरोप है कि माफिया के नाम पर भाजपा कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया जा रहा है। जबकि कांग्रेस से जुड़े ऐसे लोगों की सूची सौंपने के बाद भी उनके खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया जा रहा।

सरकार के खिलाफ बीजेपी के हल्ला बोल का कांग्रेस भी जवाब देगी। वो माफिया के खिलाफ कार्रवाई की हकीकत जनता को बताएगी। वो बीजेपी के उस दुष्प्रचार का जवाब देगी कि माफियाराज के खिलाफ सरकार की कार्रवाई किसी पार्टी विशेष के खिलाफ नहीं बल्कि गलत तरीके से काम करने वालों के खिलाफ है।