पीएम की अपील के बावजूद भीड़ संग मशाल जलाते नजर आए भाजपा विधायक

इस तस्वीर से साफ हो रहा है कि बीजेपी विधायक ने पीएम मोदी की ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ की अपील की किस तरह से धज्जियां उड़ाई हैं। साथ ही विधायक ने पीएम की दीया-मोमबत्ती जलाने की अपील को भी सिरे से खारिज कर दिया।

हैदराबाद : देश में कोरोना वायरस का कहर बढ़ता ही जा रहा है। संक्रमितों की संख्या 4000 के पार हो गई है और 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना वायरस को हराने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से बीती रात दीया, मोमबत्ती, टॉर्च या फिर मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाने की अपील की थी।

तेलंगाना के गोशामहल से बीजेपी विधायक राजा सिंह पीएम मोदी की अपील से एक कदम आगे निकले। उन्होंने दीया, मोमबत्ती, टॉर्च या फिर मोबाइल की फ्लैश लाइट तो नहीं जलाई, लेकिन भीड़ को साथ लेकर मशाल जलाते जरूर नजर आए।

राजा सिंह ने खुद लोगों संग मशाल लिए अपनी एक तस्वीर सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर की है।

इस तस्वीर में बीजेपी विधायक हाथ में मशाल लिए नजर आ रहे हैं। उनके पीछे काफी संख्या में लोग मोमबत्ती लिए खड़े हैं। राजा सिंह ने ऐसा कर पीएम मोदी की दोनों अपीलों को धता बता दिया।

दरअसल पीएम मोदी कई बार अपने संबोधन में कोरोना को फैलने से रोकने की दिशा में जनता से ‘सोशल डिस्टेंस’ का पालन करने को भी कह चुके हैं।

इस तस्वीर से साफ हो रहा है कि बीजेपी विधायक ने पीएम मोदी की ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ की अपील की किस तरह से धज्जियां उड़ाई हैं। साथ ही विधायक ने पीएम की दीया-मोमबत्ती जलाने की अपील को भी सिरे से खारिज कर दिया।

बताते चलें कि बीते रविवार महाराष्ट्र के वर्धा जिले के आरवी से बीजेपी विधायक दादारव केछे के जन्मदिन के अवसर पर कथित तौर पर बड़ी संख्या में लोग मुफ्त राशन लेने के लिए उनके आवास के बाहर जमा हो गए। ऐसा करना सरासर लॉकडाउन का उल्लंघन है।

बीजेपी विधायक ने उनके घर पर लोगों के जमा होने पर इसे विपक्षी नेताओं की साजिश बताया है।

उन्होंने कहा, ‘मैंने 4 दिन पहले ही लोगों से अपील की थी कि कोई भी मेरे जन्मदिन पर मेरे घर न आए। रविवार को कुछ बीजेपी कार्यकर्ता मुझसे मिलने आए थे, लेकिन मेरे विरोधियों ने साजिश रचकर लोगों में अफवाह फैला दी कि मेरे घर से राशन बांटा जा रहा है। मैंने इस तरह की कोई घोषणा नहीं की थी। ये सब मुझे अपमानित करने के लिए किया गया है।’