नई दिल्ली: 2019 के लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections 2019) में चार चरण के मतदान के बाद सियासी दलों की निगाहें अब पांचवें चरण के मतदान पर लगी हैं। चार चरण के चुनाव में घटते मतदान प्रतिशत को राजनीतिक दल और उनके प्रत्याशी एक बार फिर से अपनी रणनीति बनाने में जुट गए हैं। इस बीच भारतीय जनता पार्टी (BJP) एक नई टेंशन में नजर आ रही है। दरअसल, पंजाब की गुरदास लोकसभा सीट (Gurdaspur Lok Sabha Seat) से भाजपा ने फिल्म अभिनेता सनी देओल (Sunny Deol) को पार्टी का उम्मीदवार घोषित किया है और सनी का असली नाम भाजपा के लिए एक बड़ी परेशानी बन गया है। चुनाव आयोग (Election Commission) के समक्ष दाखिल किए गए नामांकन दस्तावेजों में सनी देओल ने अपना असली नाम अजय सिंह देओल बताया है।

भाजपा की परेशानी यह है कि इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) पर नामांकन पत्र में दी गई जानकारी के आधार पर ही नाम प्रदर्शित होगा। यानी, पंजाब की गुरदास लोकसभा सीट पर वोटरों को ईवीएम में सनी देओल नहीं बल्कि अजय सिंह देओल नाम दिखाई देगा। भाजपा को डर है कि मतदान के दिन ईवीएम पर अजय सिंह देओल नाम दिखने से वोटर कन्फ्यूज हो सकते हैं, क्योंकि वो भाजपा उम्मीदवार को अभी तक सनी देओल के नाम से ही जानते हैं। अपनी इसी डर को लेकर पंजाब भाजपा के नेताओं ने चुनाव आयोग से मिलकर मांग की है कि ईवीएम पर अजय सिंह देओल का नाम लिखने की बजाय सनी देओल ही लिखा जाए।

आपको बता दें कि चुनाव आयोग के नियमों के मुताबिक, ईवीएम पर वही नाम लिखा जाता है, जो नाम नामांकन पत्रों में चुनाव आयोग के समक्ष पेश किया जाता है। हालांकि, कुछ ऐसे प्रावधान हैं, जिनके तहत ईवीएम पर एक अलग नाम लिखने की भी इजाजत मिल जाती है। चुनाव आयोग से मांग करने के बाद भाजपा को उम्मीद है कि सनी देओल के नाम को लेकर जल्द ही उसकी परेशानी खत्म हो जाएगी। गौरतलब है कि पिछले दिनों ही सनी देओल भाजपा में शामिल हुए थे और इसके बाद पार्टी ने उन्हें गुरदासपुर लोकसभा सीट से भाजपा का उम्मीदवार घोषित कर दिया। गुरदासपुर से कांग्रेस के टिकट पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ चुनाव लड़ रहे हैं।

इससे पहले सनी देओल ने गुरुवार को गुरदासपुर में अपने चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत की। सनी देओल ने गुरदासपुर में एक रोड शो किया, जिसमें बड़ी संख्या में लोग उन्हें देखने के लिए इकट्ठा हुए। रोड शो के दौरान सनी वोटरों को रिझाने के लिए अपने हाथों में एक हैंड-पंप लिए हुए नजर आए। दरअसल अपनी फिल्म ‘गदर’ के एक सीन में सनी देओल ने हैंड-पंप उखाड़ा था, जो काफी चर्चित हुआ था। रोड शो के दौरान सनी देओल ने फिल्मी अंदाज में डायलॉग बोलते हुए उन्हें वोट देने की अपील भी की।

आपको बता दें कि सनी देओल ने गुरदासपुर सीट से नामांकन दाखिल करते समय चुनाव आयोग को जानकारी दी थी कि उनके और उनकी पत्नी के पास कुल 87 करोड़ की संपत्ति है, जबकि वो 53 करोड़ रुपए के कर्जदार भी हैं। चुनाव आयोग को दिए गए हलफनामे के मुताबिक, साल 2017-18 में सनी देओल की आय 63.82 लाख रुपए थी, जबकि साल 2016-17 में 96.29 लाख और इसके पहले साल 2015-16 में उनकी आय 2.25 करोड़ रुपए थी। चुनावी हलफनामे के मुताबिक, सनी की कुल चल-अचल संपत्ति 60.46 करोड़ और 21 करोड़ है। सनी देओल के ऊपर कोई आपराधिक मुकदमा दर्ज नहीं है।