पश्चिम बंगाल में सरस्वती पूजा के लिए मस्जिद से इजाजत लेनी पड़ती है: भाजपा सांसद

चटर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी तुष्टीकरण की राजनीति कर रही हैं। पश्चिम बंगाल में स्थिति ऐसी है कि राज्य में सरस्वती पूजा नहीं होने दी जाती। इसके लिए मस्जिद से इजाजत लेनी होती है। यहां के हालात पाकिस्तान के समान हैं, जहां हिंदुओं को पूजा-पाठ करने की अनुमति नहीं है।

नई दिल्लीः संसद के बजट सत्र में चर्चा के दौरान पश्चिम बंगाल से लोकसभा में भाजपा सांसद लॉकेट चटर्जी ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर तुष्टीकरण की राजनीति का आरोप लगाया। चटर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी तुष्टीकरण की राजनीति कर रही हैं। पश्चिम बंगाल में स्थिति ऐसी है कि राज्य में सरस्वती पूजा नहीं होने दी जाती। इसके लिए मस्जिद से इजाजत लेनी होती है। यहां के हालात पाकिस्तान के समान हैं, जहां हिंदुओं को पूजा-पाठ करने की अनुमति नहीं है।

पश्चिम बंगाल में 2021 में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा की राज्य इकाई पार्टी में बड़े फेरबदल की तैयारी में है। पार्टी ने संगठन को पुन: सशक्त बनाने के लिए निष्क्रिय नेताओं को महत्वपूर्ण पदों से हटाने और पार्टी में युवा एवं सक्षम नेताओं को लाने का फैसला किया है। भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि प्रदेश इकाई अपने सभी पदाधिकारियों के प्रदर्शन का आकलन कर रिपोर्ट तैयार कर रही है जिसके आधार पर वह फैसला करेगी कि उन्हें अगली समिति में जगह दी जाएगी या नहीं।


उन्होंने बताया कि जो समिति में रहना चाहते हैं, उनके लिए पिछले दो महीने में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में प्रदर्शन के दौरान राज्य के नेताओं की भागीदारी एक मुख्य कसौटी होगी।उन्होंने कहा कि पार्टी बेहतर समन्वयन और कार्य के लिए अपने जिला स्तरीय संगठन को भी पुन: सशक्त करेगी।

दिलीप घोष को लगातार दूसरी बार पार्टी की राज्य इकाई का अध्यक्ष चुने जाने के कुछ दिनों बाद यह कदम उठाया जा रहा है। राज्य समिति में बदलाव किये जाने की पुष्टि करते हुए घोष ने बताया कि केंद्रीय नेतृत्व से चर्चा के बाद अंतिम सूची तैयार की जाएगी।