Burhanpur Swaminarayan Temple

बुरहानपुर [ TNN ]बुरहानपुर स्वामीनारायण मंदिर में शाम को 56 भोग लगाये गये। और इसे 5 हजार वर्ष पुर्व की कृष्ण और गोवर्धन पर्वत की परंपरा बताई। बुरहानपुर स्वामीनारायण मंदिर में परंपरा अनूसार दिपावली के दूसरे दिन पडवे के अवसर पर भगवान स्वामीनारायण को 56 भोग लगाकर प्रसन्न किया जाता है।

 इस संबंध में ट्रस्टीज सोमेष्वर मर्चेंट से चर्चा की तो उन्होने बताया कि यह परंपरा 5 हजार वर्ष पुरानी हैं जिसे अन्न कुट भी कहते हैं। जब भगवान श्रीकृष्ण ने गोवर्धन पर्वत उठाया था और नई फसले आई थी तो सभी ने भगवान श्रीकृष्ण को 56 भोग लगाकर खुषीयां मनाई थी।

इसकी प्रसादी को भी अत्यधिक महत्व हैं, और मान्यता हैं कि बिना बताये षिव ने श्रीकृष्ण का यह प्रसाद खाया था। और पार्वती के नाराज होने पर श्राप दिया गया था तब से भगवान षिव का प्रसाद कोई नहीं खाता और श्रीकृष्ण को 56 भोग लगाते है।

रिपोर्ट -गोपाल देवकर 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here