योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने फिर एक विवादित बयान देकर भाजपा को घेरा है।

उन्होंने कहा कि भाजपा का राष्ट्रवाद सिर्फ चुनावी दांव है। दरअसल मंत्री ने यह वक्तव्य बलरामपुर में एक निजी कार्यक्रम के दौरान दिया।

उन्होंने कहा कि गरीब को राष्ट्रवाद समझ में नहीं आता है। जिस गरीब के पास दो वक्त की रोटी नहीं, वो राष्ट्रवाद क्या जाने?

कैबिनेट मंत्री ने भाजपा के राष्ट्रवाद पर तंज किया। उन्होंने कहा कि सभी पार्टियां अपना दांव अजमा रही है और भाजपा राष्ट्रवाद पर अपना चुनावी दांव लगा रही है।

कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को राजनीति में लाकर बड़ा चुनावी दांव चला है। इसी तरह सपा-बसपा का गठबंधन भी एक बड़ा चुनावी दांव है।

राजभर ने कहा कि राजनीतिक पार्टियां जनता के बीच अपना भौकाल बनाकर और उन्हें गुमराह कर वोट लेना चाह रही हैं।

हालांकि इन दावों में कौन सफल होता है। इसका जवाब 23 मई को आने वाले चुनाव नतीजे बताएंगे।

गौरतलब है कि ओम प्रकाश राजभर एनडीए से नाराज चल रहे थे लेकिन बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात के बाद वह मान गए थे।

राजभर ने कहा था कि मेरी मांग 27 प्रतिशत आरक्षण में बंटवारे की है, ये पूरी हो जाए। हमें एक भी सीट नहीं चाहिए।

वहीं सपा-बसपा गठबंधन पर निशाना साधते हुए राजभर ने कहा था कि सपा, बसपा और कांग्रेस सिर्फ अति पिछड़ों को लूटते थे। जब अति पिछड़ा वर्ग समझ गया कि ये लोग हमें लूटते हैं तो 2017 में नतीजा सामने आ गया।

अब सपा-बसपा मिलकर लूटना चाहते हैं। राजभर ने कहा था कि कांग्रेस ने गरीबों के लिए कुछ नहीं किया है। अगर किया होता तो पिछड़ा वर्ग उनसे दूर क्यों होता?