# रायपुर – खाता खोलने में गड़बड़ी, 548 करोड़ रुपए के संदिग्ध लेन-देन (ट्रांजेक्शन)और मासिक रिपोर्ट भेजने में लापरवाही के मामले में रायपुर जिला सहकारी बैंक के 12 अफसर और कर्मचारियों को शुक्रवार को निलंबित कर दिया गया | इस कार्रवाई में सीईओ अनूप अग्रवाल और तत्कालीन सीईओ एके श्रीवास्तव के अलावा दो ब्रांच मैनेजरों के खिलाफ भी कार्रवाई के लिए अपेक्स बैंक को प्रस्ताव भेजा गया है |

भारतीय रिजर्व बैंक ने कुछ महीने पहले सहकारिता विभाग को भेजे पत्र में 493 करोड़ रुपए के लेन-देन पर शक जताया था. रीजनल इकानामिक इंटेलिजेंस काउंसिल की बैठक में यह मामला सामने आया था. बोगस खातों से होते हुए यह राशि प्रकाश इंडस्ट्रीज के खाते में गई. इसी तरह से 55 करोड़ रुपए का ट्रांजेक्शन तिरुपति ट्रेडर्स के खाते में हुआ |

जांच में कई खातेदारों ने बताया कि बैंक में संचालित खाता उन्होंने खुलवाया ही नहीं है. जिन चार बैंकों का जिक्र रिजर्व बैंक ने जांच रिपोर्ट में किया था, उसमें जिला सहकारी केंद्रीय बैंक रायपुर भी शामिल था. इसमें संदिग्ध भूमिका वाले कई अफसरों और कर्मचारियों के नामों का जिक्र था. दोबारा जांच के बाद बैंक के प्रभारी अधिकारी कलेक्टर ठाकुर रामसिंह के निर्देश पर सीईओ अनूप अग्रवाल ने शुक्रवार को कार्रवाई की |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here