30 जून के बाद लॉकडाउन नहीं हटाया जाएगा, खतरा अभी खत्म नहीं हुआ – CM उद्धव ठाकरे

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि राज्य में इस साल होने वाले सभी वार्षिकोत्सवों में सोशल डिस्टेंसिंग के सभी नियमों का पालन करना होगा और इसे ज्यादा से ज्यादा घर पर ही मनाना होगा। वायरस प्रसार को रोकने के लिए लोगों को सभी आदेशों को स्वीकार करना होगा।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार को यह साफ किया कि राज्य में 30 जून के बाद भी लॉकडाउन नहीं हटाया जाएगा।

राज्य के लोगों को संबोधित करते हुए ठाकरे ने कहा, 30 जून के बाद लॉकडाउन नहीं हटाया जाएगा। हालात पहले जैसे नहीं रहेंगे। हमें चीजों को खोलते समय बहुत सावधानी बरतनी होगी और इसे धीरे-धीरे करना होगा क्योंकि खतरा अभी खत्म नहीं हुआ है।

महाराष्ट्र में शनिवार को एक दिन में अब तक के सबसे ज्‍यादा 5,318 संक्रमण के नए मामले सामने आए हैं और सर्वाधिक 167 लोगों की मौत हुई है। राज्य में अब तक कुल मामलों की संख्या 1,59,133 पहुंच गई है।

वहीं देश की आर्थिक राजधानी कही जाने वाली मुंबई इससे अत्यधिक प्रभावित है जहां अब तक 73,747 मामले सामने आए हैं वहीं आखिरी अपडेट के मुताबिक यहां 1460 केस आए हैं।

ठाकरे ने कहा कि हम लापरवाह नहीं हो सकते। अगर हम इस तरह का बर्ताव करते हैं तो कोरोना वायरस हमारा इंतजार कर रहा है। अगर कोई बहुत जरूरी काम नहीं है को कृपया घर से बाहर न निकलें। स्थानीय लोगों ने काम शुरू कर दिया है और ग्रामीण इलाकों में भी गतिविधियां शुरू हो गई हैं। किसान लगातार काम कर रहे हैं। मराठवाड़ा, विदर्भ से खराब बीजों को लेकर कई शिकायतें आई हैं। ये दुर्भाग्यपूर्ण है और इस संबंध में कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा राज्य में स्थानीय निकाय चुनावों और कोविड-19 महामारी के दौरान आदर्श आचार संहिता के कारण कृषि ऋणों को माफ करने की प्रक्रिया में देरी हुई है। अब, हमने शेष किसानों के ऋण को माफ करने का फैसला किया है।

ठाकरे ने कहा कि राज्य में इस साल होने वाले सभी वार्षिकोत्सवों में सोशल डिस्टेंसिंग के सभी नियमों का पालन करना होगा और इसे ज्यादा से ज्यादा घर पर ही मनाना होगा। वायरस प्रसार को रोकने के लिए लोगों को सभी आदेशों को स्वीकार करना होगा।

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि मैं सभी धर्मों के लोगों को धन्यवाद करता हूं। ईद, रामनवमी, आषाढ़ एकादशी सभी त्योहार घर में ही मनाए गए। वारि राज्य में सैकड़ों वर्षों से वार्षिक तौर पर मनाया जाने वाला एक त्योहार है। इस साल, हम इसे इस तरह से नहीं मना पाएंगे। मैं विट्ठल का आशीर्वाद लेने जा रहा हूं।

ठाकरे ने कहा मैं आपके प्रतिनिधि के रूप में पंढरपुर जा रहा हूं। मैं आपका आशीर्वाद चाहता हूं। मैं दही हांडी मंडलों को धन्यवाद देना चाहता हूं। उन्होंने अपनी सामाजिक जिम्मेदारी को महसूस किया है और समारोहों को रद्द कर दिया है।

आगामी गणेशोत्सव के लिए अनुरोध करते हुए, मुख्यमंत्री ने कहा, “मूर्तियों को चार फीट से अधिक नहीं होना चाहिए। हम चर्चा करेंगे और देखेंगे कि जश्न कैसे मनाया जाए।

उन्होंने लोगों से सामाजिक जिम्मेदारी दिखाकर जश्न मनाने की भी अपील की। ठाकरे ने कहा“कृपया रक्तदान करें। हम गणेश के फुर्तीले भक्त हैं। इसलिए स्वास्थ्य के मुद्दों के बारे में जागरूकता दिखाने की आवश्यकता होगी।”

मई में, महाराष्ट्र ने कोरोनोवायरस रोगियों के इलाज के लिए प्रायोगिक आधार पर प्लाज्मा थेरेपी का उपयोग शुरू किया गया था।

रविवार को, ठाकरे ने कहा कि उपचार में बड़ी सफलता मिली है और लोगों को आश्वासन दिया है कि पूरे राज्य में प्लाज्मा थेरेपी पर ध्यान देने वाले केंद्र खोले जाएंगे।

उद्धव ठाकरे ने कहा “हमने प्लाज्मा थेरेपी के उपयोग में जबरदस्त सफलता दिखाई है। हम अधिकतम प्लाज्मा थेरेपी का उपयोग करने वाले पहले राज्य होंगे। कल से, इस उपचार के लिए और केंद्रों को समर्पित करेंगे। ”