राफेल डील: बहस के लिए तैयार कांग्रेस, स्वीकार की अरुण जेटली की चुनौती

0
14

नई दिल्ली: राफेल डील को लेकर कांग्रेस संसद के भीतर चर्चा के लिए तैयार हो गई है। वित्त मंत्री अरुण जेटली की चुनौती को कांग्रेस ने स्वीकार करते हुए राफेल डील पर बहस कराने की मांग की है। विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने सोमवार को कहा कि जेटली जी ने बहस की चुनौती दी थी, हम 2 जनवरी को इसपर बहस करने के लिए तैयार हैं, कृपया आप समय तय की कीजिए। खड़गे ने यह बयान ऐसे समय में दिया जब सरकार ने मार्च 2019 तक 85948.86 करोड़ रुपए के अतिरिक्त वित्तीय अनुदान को अनुमति देने के प्रस्ताव को आगे बढ़ाया।

सोमवार को दोपहर जब 2 बजे सदन में इस पूरक अनुदान पर चर्चा का प्रस्ताव सामने आया तो खड़गे ने कहा कि हम एक बार फिर से राफेल डील की जेपीसी से जांच कराने की मांग करते हैं। इसपर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि खड़गे जी को इस मसले पर तुरंत बहस शुरू करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार इस मसले पर जवाब देने के लिए तैयार है, खड़गे बहस से भाग रहे हैं। जेटली ने कहा कि वह साबित कर देंगे कि कांग्रेस पार्टी लोगों के बीच इस डील को लेकर झूठ फैला रही है।

सोमवार को जब सदन की कार्रवाई पूरे दिन के लिए स्थगित होने वाली थी तभी खड़गे ने स्पीकर सुमित्रा महाजन को याद दिलाया कि हम इश मसले पर बहस के लिए तैयार है, उन्होंने बहस के लिए समय की मांग की। जिसपर महाजन ने कहा कि बहस कब करानी है इसपर मैं फसला लूंगी, आप मुझे तुरंत समय निर्धारित करने के लिए नहीं कह सकते हैं। महाजन ने कहा कि आप अपनी चुनौती अपने पास रखिए मुझे चुनौती मत दीजिए। इससे पहले जब सदन में कांग्रेस की ओर से राफेल का मुद्दा उठाया गया तो सरकार की ओर से कहा गया कि बहस से भागिएगा नहीं।

गौरतलब है कि काग्रेस पार्टी शीतकालीन सत्र की शुरुआत से ही राफेल डील की जांच जेपीसी से जांच कराए जाने की मांग कर रही है। इस मसले को उठाते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि इस डील में घोटाला हुआ है, आखिर क्यों सरकार इस डील में जेट की कीमत बताने के लिए तैयार नहीं है। जिसपर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने पलटवार करते हुए कहा कि बार-बार झूठ बोलने से झूठ सच नहीं हो जाएगा। इस दौरान यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी सदन में मौजूद थीं।