Home > India > अमरनाथ हमले के विरोध में आतंकवाद का पुतला फूंका

अमरनाथ हमले के विरोध में आतंकवाद का पुतला फूंका

खंडवा: कश्मीर के अनंतनाग में अमरनाथ यात्रियों पर हुए हमले पर कांग्रेस ने कड़ी आपत्ति जताई है। घटना से नाराज कार्यकर्ताओं ने पाकिस्तान और आतंकवाद का पुतला दहन किया।

कांग्रेस मीडिया प्रभारी आशीष मिश्रा ने बताया की खंडवा कांग्रेस कमेटी ने अमरनाथ यात्रियों पर रात्रि में आतंकवादियों द्वारा किए गए जानलेवा हमले की निंदा और आतंकवादियों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही की मांग करते हुए राष्ट्रपति के नाम जिला कलेक्टर को ज्ञापन देकर स्थानीय नगर निगम चौराहे पर आतंकवाद के खिलाफ नारेबाजी करते हुए आतंकवाद का पुतला फूंका |

इस दौरान पाकिस्तान मुर्दाबाद मोदी सरकार हाय हाय के नारे भी लगाए गए आतंकवाद का पुतला फूंकने वालों में मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव रियाज हुसैन शहर अध्यक्ष ठाकुर इंदल सिंह पवार श्याम यादव इकबाल कुरेशी अहमद पटेल राकेश पाठक असलम खान आशु बक्शी रेखा तंत बार जलील खान महमूद खान असलम कादर शेख अबरार शफीक सिद्दीकी सहित अन्य कांग्रेस जन उपस्थित थे |

अमरनाथ यात्रा पर आतंकी हमले से पूरे देश में गुस्से का माहौल है। सोमवार रात को हुए आतंकी हमले में 7 श्रद्धालुओं की मौत हो गई है कश्मीर के आईजी मुनीर खान ने बताया है कि अमरनाथ यात्रा के श्रद्धालुओं पर हुए हमले को लश्कर ए तयैबा ने अंजाम दिया जिसका मास्टरमाइंड पाकिस्तानी आतंकी इस्माइल था।

ट्विटर पर कई सभी पार्टियों, नेताओं और कई जानी मानी हस्तियों ने ट्विट करके इस हमले की निंदा की है। खुद प्रधानमंत्री मोदी ने कई ट्विट करके हमले पर दुख जताया है। साथ ही गर्वनर और मुख्यमंत्री से बात करके घायलों को जरूरी चीजें पहुंचाने की बात कही है।

वहीं एक घायल ने बताया कि अमित शाह और पीएम मोदी ने फोन करके घायलों से बात की है। उनका हालचाल पूछा और दूसरी जरूरी चीजें पहुंचानी की बात की। वहीं जम्मू कश्मीर की मुख्य मंत्री महबूबा मुफ्ती ने चैनल से बात करते हुए इस हमले पर दुख जताया। साथ ही इस हमले को कश्मीर और मुसलमानों पर धब्बा बताया। महबूबा ने कहा कि हमारी सुरक्षाबल जब तक इस हमले में शामिल लोगों पकड़कर सजा नहीं देंगे तबतक चैन से नहीं बैठेंगे।

सोशल मीडिया पर लोगों से कल कश्मीर जागरूकता अभियान शुरू करने के अलगावादियों की अपील के बाद एहतियाती तौर पर कश्मीर घाटी में इंटरनेट सेवा आज रात निलंबित कर दी गयी है।

हिज्बुल कमांडर बुरहान वानी की मौत के एक साल होने पर कानून और व्यवस्था की समस्या की आशंका से शुक्रवार और शनिवार को प्रशासन द्वारा सेवा रोकने के एक दिन बाद यह कदम उठाया गया। अधिकारियों ने बताया कि मोबाइल और ब्रॉडबैंड सहित इंटरनेट सेवाएं कश्मीर घाटी में निलंबित कर दी गयी।

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com