खुले में नमाज़ पर रोक तो शाखा पर क्यों नहीं? – मिश्रा

0
52

उत्तर प्रदेश के नोएडा में पार्क में नमाज़ पढ़े जाने पर रोक लगने का मुद्दा गर्माया हुआ है। शुक्रवार को उत्तर प्रदेश कांग्रेस के नेता संपूर्णानंद मिश्रा ने डीजीपी को चिट्ठी लिखकर प्रदेश में लगने वाली राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) की शाखाओं पर रोक लगाने की मांग की है।

उन्होंने कहा कि अलग-अलग नियम क्यों चलाया जा रहा है? इस मामले में आज कांग्रेस के एमएलसी दीपक सिंह ने सीएम योगी आदित्यनाथ को चिट्ठी लिखी है।

एमएलसी दीपक सिंह ने कहा कि सभी धर्मों के एक कानून होना चाहिए। इस पत्र में दीपक सिंह ने नमाज़ पर लगी रोक को गलत ठहराते हुए कहा है कि कानून सभी के लिए समान है।

लिहाजा सार्वजनिक जगहों पर अगर प्रार्थना पर रोक लगाई जाती है, तो ये रोक सभी धर्मों के लिए होनी चाहिए। अगर नमाज़ पढ़ने पर रोक है, तो शाखा पर भी रोक लगनी चाहिए। उन्होंने कहा कि योगी सरकार को इस मामले को गंभीरता से लेना चाहिए।

कांग्रेस के संपूर्णानंद का कहना है कि जब खुले में नमाज पर रोक लगाई गई है, तो यही नियम आरएसएस की शाखा पर लागू क्यों नहीं किया जा रहा है।

इस तरह का आदेश देना पूरी तरह से अनैतिक है। बता दें कि संपूर्णानंद उत्तर प्रदेश कांग्रेस के बुद्धिजीवी प्रकोष्ट के प्रमुख हैं।

नोटिस में कहा गया था कि अगर सार्वजनिक स्‍थान पर नमाज़ पढ़ी गई, तो इसकी जिम्‍मेदार संबंधित कंपनी होगी।

हालांकि, इसके बाद प्रशासन की तरफ से साफ किया गया कि इसकी जिम्‍मेदार कंपनी नहीं होगी। पुलिस का कहना है कि नमाज़ पढ़ने में आपत्ति नहीं है, बल्कि इसके लिए पहले से इजाज़त लेना ज़रूरी है।