Home > India News > उत्तराखंड में आफत की बारिश,30 की मौत

उत्तराखंड में आफत की बारिश,30 की मौत

uttarakhandदेहरादून : मानसून के आते ही उत्तराखंड में आफतों का दौर भी शुरू हो गया। आज भारी बारिश से सूबे में 30 लोगों की मौत हो गई, जबकि कई लोग लापता हो गए। पिथौरागढ़ में बारिश कहर बनकर बरसी।

डीडीहाट में मलबे में दबने से नौ लोगों की मौत हो गई, जबकि 23 लोग अभी भी मलबे में दबे हुए हैं। राहत और बचाव कार्य जारी है। वहीं, चमोली में बादल फटने से दो लोगों की मौत हो गई, जबकि आठ लोग लापता बताए जा रहे है। वहीं, अपुष्ट सूत्रों के अनुसार सूबे में 30 लोगों की मौत हो गई है। हालांकि, प्रशासन सिर्फ 11 लोगों की मरने की बात कह रहा है। चमोली जनपद में बादल फटने के बाद अलकनंदा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।

बागेश्वर में बारिश के चलते सरयू और गोमती का जलस्तर काफी बढ़ गया हैं वहीं अलकनंदा का जलस्तर भी खतरे के निशान से उपर जा रहा है। ऋषिकेश-बद्रीनाथ मार्ग पर तोता घाटी के समीप राजमार्ग पर चट्टान आ गिरी, जिससे हाईवे बंद हो गया। उधर, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री हाईवे पर यातायात सुचारु है। एसडीआरएफ के आईजी संजय गुंज्‍याल के अनुसार चार धाम यात्रा और हेमकुंड यात्रा के सभी यात्री सुरक्षित हैं।

शुक्रवार सुबह पिथौरागढ़ जिले के डीडीहाट और थल तहसील क्षेत्र में बादल फटे। इससे सबसे ज्‍यादा नुकसान बस्तड़ी क्षेत्र में हुआ। यहां पहाड़ी से आए मलबे में कई लोग दब गए। सूचना पर आपदा प्रबंधन टीम, पुलिस-प्रशासन और सेना के जवान मौके पर पहुंचे और राहत बचाव कार्य शुरू किया। पुलिस ने मलबे से अब तक छह शवों को निकाला है, जबकि अभी 25 लोगों के मलबे में दबे होने की आशंका है। गंभीर हालत में दो लोगों को अस्‍पताल लाया गया। जिले में संचार सेवा ठप हो गई है। ओगला-सिंगाली-भागिचौरा मार्ग दो स्थानों पर 30-40 मीटर बह चूका है।

टोपराधार दाफिला में दो माकन ध्वस्त होने से तीन जानवर मलबे में दबकर मर गए। थल और मुवानी के बीच मार्ग में मलबा आने से मार्ग बंद हो गया है। वहीं, थल-डीडीहाट-अस्कोट मार्ग भी मलबे से पट चूका है। जौलजीबी से बरम के बीच खन्पैरा के पास नाले के उफान में आने से 2 पुल बह गये है। सिंचाईगूल और ग्रिफ का डिपो भी गोरी नदी की भेंट चढ़ चूका है। पुरे जिले में संचार सेवा ठप है। बारिश के चलते अलग-अलग जगहों पर अब तक 30 लोगों के मारे जाने की खबर है।

ऋषिकेश-बद्रीनाथ मार्ग पर तोता घाटी के समीप राजमार्ग पर चट्टान आ गिरी। इससे प्रातः चार बजे से राजमार्ग बंद है। फिलहाल चट्टान को हटाने का काम जारी है। प्रभारी थानाध्यक्ष देवप्रयाग हीरामणि पोखरिया ने बताया कि क्षेत्र में रात से ही भारी बारिश जरी है, जिससे तोताघाटी के समीप प्रातः 4:00 बजे मार्ग अवरुद्ध हो गया था। जेसीबी की मदद से मार्ग को खोने का काम जारी है, फिलहाल मार्ग बंद होने से दोनों ओर लंबा जाम लग गया है।

राज्य में बारिश को लेकर मौसम विभाग ने जो अलर्ट जारी किया है उसके अनुसार दो दिनों तक राज्‍य में बारिश जारी रहेगी। मौसम विभाग के अनुसार राज्य के अनेक स्‍थानों पर भारी से भारी बारिश होने की संभावना है। इनमें कुमाऊं के अल्‍मोड़ा, चंपावत, नैनीताल, उधमसिंह नगर जिले शामिल हैं।

राज्‍य में लगातार बारिश और भूस्‍खलन में मरने वालों के प्रति मुख्‍यमंत्री ने गहरा दुख व्‍यक्‍त किया है। सरकार ने मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया है। मुख्‍यमंत्री ने प्रभावित जिलों के अधिकारियों को सतर्क रहने और राहत-बचाव कार्य में तेजी लाने के लिए कहा है।

Facebook Comments
Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com