Home > Election > नोटबन्दी : किसी का लोन माफ नहीं किया-अरूण जेटली

नोटबन्दी : किसी का लोन माफ नहीं किया-अरूण जेटली

लखनऊ: केंद्रीय वित्त व कारपोरेट मंत्री अरूण जेटली ने मंगलवार को पार्टी मुख्यालय पर पत्रकारों से बात करते कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा की लहर चल रही है। हाल ही देश के कई हिस्सों में हुए चुनावों में भाजपा को मिली जीत यह संकेत करती है कि उत्तर प्रदेश में भी भाजपा सरकार बनाने जा रही है। भाजपा प्रदेश मुख्यालय में मंगलवार को प्रेसवार्ता में जेटली ने कहा कि भाजपा शासित राज्यों में सुशासन, विकास और भयमुक्त वातावरण की गंगा बह रही है। उत्तर प्रदेश की जनता भाजपा को वोट देकर सपा, बसपा व कांग्रेस के अपराध व भ्रष्टाचार के शासन को उखाड़ फेंके। जेटली ने कहा कि प्रदेश के पहले चरण के चुनाव में भाजपा की लड़ाई बसपा से थी। अगले चरणों के चुनावों में भी भाजपा ही मुख्य लड़ाई में है। जेटली ने सपा व कांग्रेस के गठबंधन को मजबूरी में बनाया गया गठबंधन बताते हुए कहा कि समाजवादी आंदोलन के अगुवा डा राम मनोहर लोहिया ने नारा दिया था कि कांग्रेस हटाओ, देश बचाओ। लोहिया, जयप्रकाश नारायण सहित समाजवादी आंदोलन की शुरूआत के अग्रणी नेता कांग्रेस को देश के लिए खतरनाक और नुकसानदायक बताते हुए सदा कांग्रेस को खत्म करने के लिए लड़ाई लड़ने की अपील करते रहे, लेकिन राजनैतिक पतन के कारण लोहिया, जयप्रकाश नारायण की विरासत का दावा करने वाली आज की समाजवादी पार्टी उसी कांग्रेस से हाथ मिलाने को मजबूर हो गई, जिसने देश को राजनैतिक, आर्थिक व सामाजिक स्तर पर बड़ा नुकसान पहुंचाया है।मौजूदा समाजवादी पार्टी ने समाजवाद को तिलांजलि देकर परिवारवाद, वंशवाद और भ्रष्टाचार को प्रोत्साहित किया है और जनता को धोखा दिया है। 

जेटली ने कहा कि भ्रष्टाचार और कालाधन के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लड़ाई शुरू की तो पूरा विपक्ष देशहित के इस फैसले के खिलाफ एकजुट हो गया। इससे सपा, बसपा, कांग्रेस सहित दूसरे विपक्षी दलों का चेहरा बेनकाब हो गया है। देश की जनता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गरीबों, दलितों, पिछड़ों, महिलाओं, युवाओं और आम जनता को समान अवसर, समान बुनियादी सुविधाएं और सबको सम्मान व ईमानदारी के रास्ते के लिए विमुद्रीकरण सहित अनेक कदम उठाए हैं और देश की जनता मोदी जी के फैसले के साथ खड़ी है। देश की जनता ने प्रधानमंत्री मोदी के नोटबंदी के फैसले की प्रशंसा कर रही है और देश की जनता का भरोसा मोदी में और मजबूत हुआ है। जेटली ने कहा कि समाजवादी पार्टी शासन व राजनैतिक क्षेत्र के सभी मोर्चों पर नाकाम साबित हुई है। राज्य में अराजकता की स्थिति है। प्रदेश में कानून-व्यवस्था नाम की चीज नहीं रह गई है। अखिलेश राज कुशासन, भ्रष्टाचार, हत्या, लूट, बलात्कार प्रदेश का प्रतीक बन गया है। अखिलेश सरकार केंद्र की योजनाओं को राज्य में लागू नहीं करती है। केंद्र की मोदी सरकार ने अधोसंरचना विकास के लिए 3.96 करोड़ रुपए आवंटित किए और 10 हजार किलोमीटर राष्टृीय राजमार्ग बनवाए। लेकिन अखिलेश यादव की सपा सरकार केवल कुछ किलोमीटर के अधूरे एक्सप्रेस हाइवे पर वोट मांग रही है।

आम बजट पर जेटली ने कहा कि पहले बजट आने पर लोग जानना चाहते थे कि क्या महंगा हुआ। लेकिन मोदी सरकार ने इस परिपाटी को बदल दिया और आम बजट में किसी भी वस्तु के दाम नहीं बढ़ाए। मोदी सरकार ने आम आदमी की सुविधा व भलाई के लिए कर सीमा बढ़ा दी। मोदी सरकार व्यापार व उद्योग धंधों के विकास के लिए प्रतिबद्ध है।जेटली ने अखिलेश सरकार को तुष्टीकरण व जाति-धर्म आधारित फैसले लेने वाली सरकार बताते हुए कहा कि अखिलेश यादव के कार्यकाल में समाज की विशेष जाति या विशेष धर्म के लोगों की तरक्की हुई, लेकिन प्रदेश की जनता को उनके अधिकारों, आवश्यकताओं, नौकरियों, योजनाओं से वंचित रखा गया। भाजपा की सरकार बनने पर समाज के हर समुदाय व समाज के अंतिम व्यक्ति का विकास होगा।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश का विकास देश के विकास से जुड़ा है। उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार इसलिए जरूरी है ताकि प्रदेश के विकास के साथ देश को तरक्की के पथ पर आगे ले जाया जा सके। एक सवाल के जवाब में जेटली ने कहा कि विमुद्रीकरण को चुनाव से नहीं जोड़ना चाहिए। विमुद्रीकरण का फैसला देश की राजनैतिक व आर्थिक व्यवस्था स्वच्छ व पारदर्शी बनाने के लिए किया गया है। उन्होंने कहा कि अच्छी नीयत और अच्छे इरादे से शुरू किया गया काम कभी बेकार नहीं जाता है और विमुद्रीकरण गरीबी, कालाधन, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, हवाला कारोबार, नक्सलवाद और अपराध खत्म करने की दिशा में उठाया गया एक क्रांतिकारी कदम है।

एक अन्य सवाल के जवाब में जेटली ने कहा कि बड़े लोगों का एक लाख करोड़ माफ करने का आरोप बेबुनियाद है। कांग्रेस की सरकार के दौरान 2007 से 2009 के बीच में ये बड़े लोन दिए गए थे और इन्हीं का ब्याज बढ़कर बैंकों का गैर उत्पादक संपत्ति बढ़ी है। मोदी सरकार ने 26 मई, 2014 को सत्ता में आने के बाद किसी भी बड़े उद्योगपति का एक रूपया का लोन भी माफ नहीं किया है। उन्होंने कहा कि दस साल तक सरकार में रहने के बावजूद कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी के पास सामान्य जानकारी का अभाव है। उनकी सरकार ने लाखों रूपए के लोन बड़े उद्योगपतियों को दिए थे। राहुल गांधी बड़े उद्यमियोें को लोन देने और उनके डिफाल्टर होने के मामले में भाजपा पर आरोप लगाकर अपनी कांग्रेस नीति सरकार यानी कांग्रेस पर ही आरोप लगा रहे हैं और राहुल गांधी के सवालों से कांग्रेस कटघरे में खड़ी हो रही है। जेटली ने कहा कि भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में किसानों के आर्थिक विकास के लिए पूरा जोर लगाने का वादा किया और भाजपा की सरकार बनने के बाद यह कार्य पूरा किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि विपक्षी दलों के जो नेता आरोप लगाते हैं कि केंद्र सरकार गैर भाजपा शासित राज्यों के साथ उपेक्षा कर रही है और ऐसे राज्यों को धन नहीं दे रही है, उन नेताओं को भारत की मौजूदा संघीय व्यवस्था की जानकारी दुरुस्त करनी चाहिए। यह पूरा का पूरा गणित है और कोई सरकार राज्यों का एक रूपया नहीं रोक सकती है। पहले राज्यों को कर संग्रह का 29 प्रतिशत हिस्सा मिलता था और मोदी सरकार आने के बाद अब 42 प्रतिशत दिया जाने लगा है। अखिलेश यादव अपनी नाकामी केंद्र सरकार पर धन नहीं देने का बेबुनियाद आरोप लगाकर छिपाना चाहते हैं।

रिपोर्ट @शाश्वत तिवारी






Our News Network and website neither have any collaboration and connection directly nor indirectly with “India Today Group/ITG” ,TV Today Network, Channel Tez TV media group .