Home > India News > भले आप उफ़्फ़ तक ना करें, पर इन बच्चों की अभिव्यक्ति को कैसे रोकेंगे

भले आप उफ़्फ़ तक ना करें, पर इन बच्चों की अभिव्यक्ति को कैसे रोकेंगे

खण्डवा : खण्डवा की बेतरतीब यातायात व्यवस्था और उससे उपजी त्रासदियों पर यह शहर भले उफ़्फ़ ना करता हो लेकिन इसी शहर के स्कूली बच्चे इस पर चुप नहीं है। उनके पास इस शहर की ट्रेफिक समस्याओ की ना केवल गहरी समझ है बल्कि समस्याओं के निदान का ब्लू प्रिन्ट भी और सबसे बड़ी बात प्रशासन की अकर्मण्यता के खिलाफ मुखर होने का साहस भी उनमे खूब है। शहर के ट्रैफिक की समस्याओ को लेकर विद्याकुंज इंटरनेशनल स्कूल ने जब इस शहर की प्रमुख स्कूलों के बच्चो को एक साझा मंच दिया तो यह अभिव्यक्त हुआ नुक्कड़ नाटक, पोस्टर और रिपोर्ट रायटिंग कॉम्पिटिशन में।

खण्डवा तथा बुरहानपुर जिले के सभी सीबीएसई स्कूलों के संगठन ईस्ट निमाड़ सहोदय स्कूल कॉम्प्लेक्स के तत्वाधान में विद्याकुंज इंटरनेशनल स्कूल में इंटरस्कूल कॉम्पिटिशन 2017 का आयोजन किया गया। इसमें सेंट जोसेफ कान्वेंट स्कूल , सेंट पायस , होली स्पिरिट कान्वेंट ,एंजिल्स प्लेनेट और बुरहानपुर के नेहरू मोन्टेसरी स्कूल के करीब सौ से ज्यादा विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया। खण्डवा के ट्रेफिक की समस्या विषय पर नुक्कड़ नाटक ,पोस्टर मेकिंग -स्लोगन रायटिंग तथा रिपोर्ट रायटिंग इन तीन विधाओं में स्पर्धा थी। अपने रोजमर्रा के जीवन और शहर से जुड़े विषय को लेकर विद्यार्थियों में खासा उत्साह था जो उनके प्रदर्शन में परिलक्षित हुआ। लगभग लुप्त हो रही नुक्कड़ नाटक की विधा में बच्चो का प्रदर्शन इस कदर प्रभावी था कि स्पर्धा के निर्णायक श्री विजय सोनी एवं श्री संजय भट्ट जो स्वयं इस विधा के सिद्धहस्त कलाकार है ,अवाक् रह गए। विषय के प्रति उनकी समझ, डायलॉग डिलेवरी और अभिनय काबिलेतारीफ था। इस स्पर्धा में पहला पुरस्कार सेंट जोसफ़ कान्वेंट की टीम को मिला और रनर-अप रही सेंट पायस स्कूल की टीम।

पोस्टर मेकिंग -स्लोगन रायटिंग में ए और बी दोनों वर्गों में सेंट जोसेफ कान्वेंट स्कूल की अनुष्का वर्मा और नंदिनी गंगराड़े ने प्रथम और बुरहानपुर के नेहरू मोन्टेसरी स्कूल की रशीदा खानबहादुर और आकाश महाजन ने द्वितीय स्थान हासिल किया। पोस्टर्स के माध्यम से भी बच्चों ने खण्डवा की ट्रैफिक की समस्या की ओर ध्यान आकर्षित किया वही इसमें सुधार के लिए प्रभावी स्लोगन भी लिखे। रिपोर्ट रायटिंग में ए वर्ग में प्रथम आरुषि वर्मा और द्वितीय ईशान गुप्ता रहे जबकि बी वर्ग में प्रथम सेंट पायस की भाविका वाधवा और द्वितीय वेदांगी व्यास रही। बच्चों ने खण्डवा की ट्रैफिक की समस्या का बारीकी से विश्लेषण किया ,समस्याओं को रेखांकित करने के साथ ही उनके निदान के उपाय भी बताये। रिपोर्ट में सड़को पर बाधक अतिक्रमणो का भी जिक्र किया तो पार्किंग व्यवस्था के अभाव का भी। उन्होंने यातायात समिति की बैठकों के फ़ैसलों के क्रियान्वित नहीं होने पर भी सवाल उठाये तो शहर के नागरिको में भी यातायात नियमो के प्रति जागरूकता के अभाव पर भी।

इस स्पर्धा में शामिल सभी स्कूलों के टीचिंग स्टॉफ ने इस आयोजन को बहुत सार्थक और प्रासंगिक बताया। आरम्भ में विद्याकुंज के संचालक जय नागड़ा ने बताया कि स्कूली बच्चों को भी शहर की इन समस्याओं से रोजाना उलझना होता है इसलिए ट्रैफिक को लेकर उनमे बेहतर समझ होना जरुरी है। एकेडेमिक डायरेक्टर श्रीमती यामिनी नागड़ा ने कहा कि नुक्कड़ नाटक भी अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है और इससे नयी पीढ़ी को जोड़ना जरुरी है। शहर में वरिष्ठ रंगकर्मी श्री विजय सोनी और श्री संजय भट्ट ने बच्चों को नाटक के लिए महत्वपूर्ण टिप्स दिए। पोस्टर मेकिंग के लिए निर्णायक के बतौर क्रिएटिव क्वींस क्लब की श्रीमती मेघा अग्रवाल और श्रीमती शीतल अग्रवाल उपस्थित थी। प्रिंसिपल श्रीमती अर्चना करजोदकर ने अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंट कर आभार व्यक्त किया।

Facebook Comments

Our News Network and website neither have any collaboration and connection directly nor indirectly with “India Today Group/ITG” ,TV Today Network, Channel Tez TV media group .