tomarनई दिल्ली – फर्जी डिग्री के मामले दिल्ली के कानून मंत्री और त्रिनगर से विधायक जितेंद्र सिंह तोमर को गिरफ्तार कर लिया गया है। आम आदमी पार्टी (आप) के नेता और पार्टी के प्रवक्ता संजय सिंह ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि गिरफ्तारी के बाद उन्हें हौज खास थाने में ले जाया गया है। उन्होंने कहा कि बिना किसी नोटिस के जितेंद्र तोमर को गिरफ्तार किया गया है, जबकि मामला अदालत में विचाराधीन है। इसके बाद अब तोमर की दिल्ली मंत्रिमंडल से विदाई हो सकती है।

दूसरी तरफ, दिल्ली पुलिस के सूत्रों का कहना है कि इस मामले में कानूनी प्रक्रिया पूरी कर ली गई थी। आरोप है कि कानून मंत्री पूछताछ में सहयोग नहीं कर रहे थे और उनके खिलाफ पर्याप्त सबूत थे। पुलिस सूत्रों ने बताया कि अगर जितेंद्र तोमर थाने में भी सवालों का जवाब नहीं देते हैं तो उन्हें अदालत में पेश करके रिमांड लेने की कोशिश की जाएगी।

दूसरी तरफ, संजय सिंह ने इस पर कहा है, ‘जितेंद्र तोमर का पूरा मामला कोर्ट में हैं। मोदी सरकार हमें मुकदमे और थाने से डरा रही है, जिसे हम कुछ समझते नहीं हैं। वह थाने में हमें एक बार नहीं हजार बार भेजें। हमारी लड़ाई भ्रष्टाचार के खिलाफ जारी रहेगी।

जितेंद्र तोमर पर आरोप है कि उनकी ग्रैजुएशन और एलएलबी की डिग्री फर्जी है। बिहार की तिलक राम मांझी यूनिवर्सिटी, भागलपुर ने दिल्‍ली हाई कोर्ट को बताया कि जितेंद्र सिंह तोमर का अंतरिम प्रमाणपत्र जाली है और इसका संस्थान के रिकॉर्ड में इसका अस्तित्व नहीं है। तोमर ने इसी यूनिवर्सिटी से लॉ की पढ़ाई करने का दावा किया था।

यूनिवर्सिटी ने अदालत के सामने अपनी जांच रिपोर्ट रखकर कहा कि अंतरिम प्रमाण पत्र में दिया गया सीरियल नंबर रिकॉर्ड में तोमर की जगह किसी अन्य व्यक्ति का नाम दिखाता है। इस याचिका पर पक्षकार बनाने की मांग करने वाले दिल्ली बार काउंसिल के सदस्यों ने अदालत को जानकारी दी कि उन्हें अवध विश्वविद्यालय से जानकारी मिली है कि तोमर के ग्रैजुएशन की डिग्री भी जाली है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here