कोलकाता: पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में रोड शो में हुए हंगामे और विद्यासागर कॉलेज में तोड़फोड़ के मामले में छात्र-छात्राओं ने आमरस स्ट्रीट थाने में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई है। इसके अलावा कोलकाता विश्वविद्यालय के समक्ष हुए हंगामे को लेकर जोड़ासांको थाने में भी एक प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। जो जानकारी मिल रही है उसके मुताबिक इस मामले में अबतक कुल 58 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार 58 लोगों में आमरस स्ट्रीट थाने में 35 और जोड़ासांको की पुलिस ने 23 लोग हैं

वहीं बीजेपी नेता अमित मालवीय ने आरोप लगाया है कि तेजिंदर पाल सिंह बग्गा समेत पार्टी के कई नेता को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।वहीं टीएमसी का आरोप है कि बीजेपी कार्यकर्ताओं ने समाजसेवी और दार्शनिक ईश्वर चंद विद्यासागर की मूर्ति तोड़ दी है।

टीएमसी ने आज इसकी शिकायत करने के लिए चुनाव आयोग से मुलाकात का समय मांगा है। वहीं बीजेपी ने अमित शाह के रोड शो के दौरान हुई हिंसा के खिलाफ आज दिल्ली के जंतर मंतर पर विरोध प्रदर्शन करने का ऐलान किया है।

मंगलवार को शाह के रोड शो में पत्थरबाजी और झड़प का मामला देर शाम चुनाव आयोग पहुंच गया, जहां बीजेपी ने आयोग से मांग की है कि तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों को कथित-तौर पर भड़काने के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को प्रचार करने से रोका जाए। इसी मुद्दे पर आज अमित शाह ने दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस भी किया। बता दें कि ममता बनर्जी ने अमित शाह की रैली और यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के दौरे पर रोक लगाई थी, जिसके बाद भाजपा भड़की हुई है। वहीं, बंगाल में हर चरण में मतदान के दौरान हिंसा की खबरें आई हैं।

अमित शाह ने कहा कि उनके रोड शो के दौरान कोई हिंसा का वातावरण नहीं था, बीजेपी के कार्यकर्ता शांतिपूर्वक रोड शो में चल रहे थे। लेकिन इस दौरान उनपर तीन बार हमले किए गए, आगजनी की गई, किरोसिन बम फेंके गए। अमित शाह ने ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने के मामले पर टीएमसी पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि टीएमसी के कार्यकर्ताओं ने विद्यासागर की प्रतिमा तोड़ी और अब इसमें साजिश रची जा रही है।