सुब्रमण्यम स्वामी ने भाजपा के लिए मुश्किल खड़ी कर दी

0
26

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी के लिए उनके ही अपने वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने मुश्किल खड़ी कर दी है। वरिष्ठ भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने पार्टी के घोषणा पत्र में दो बड़ी गलती को उजागर किया है। उन्होंने ट्विटर के जरिए पार्टी के घोषणा पत्र में की गई दो बड़ी गलतियों का जिक्र करते हुए इसे बहुत बड़ी भूल बताया है। दरअसल भाजपा ने अपने घोषणा पत्र में किसानों की आय को दोगुना करने की बात कही है जिसे लेकर स्वामी ने पार्टी पर सवाल खड़ा किया है।

भारतीय जनता पार्टी ने अपने घोषणा पत्र संकल्प पत्र में कहा है कि वह 2022 तक किसानों की आय को दोगुना कर देगी। इसपर सवाल खड़ा करते हुए स्वामी ने कहा कि इसका मतलब यह है कि देश को 24 फीसदी की रफ्तार से विकास करना होगा जोकि बहुत मुश्किल है। देश अधिकतम 10 फीसदी प्रति वर्ष की रफ्तार से विकास कर सकता है। इसके अलावा स्वामी ने जो दूसरी गलती घोषणा पत्र में उजागर की है वह यह कि देश की जीडीपी दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी है नाकि छठी। स्वामी ने कहा कि मैंने इस बाबत राजनाथ सिंह को जानकारी दी है कि वह घोषणा पत्र में संशोधन करें क्योंकि इसमे दो बड़ी गलतियां की गई हैं।

बता दें कि केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह 20 सदस्यीय मैनिफेस्टो कमेटी के अध्यक्ष थे, उन्ही की अध्यक्षता में पार्टी का घोषणा पत्र तैयार किया गया है। इसमे केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली, निर्माल सीतारमण, पीयूष गोयल, रवि शंकर प्रसाद, मुख्तार अब्बास नकवी शिवराज सिंह चौहान सहित कई बड़े नेता शामिल थे। भाजपा ने अपने घोषणा पत्र में ना सिर्फ किसानों बल्कि एनआरसी को देश के अन्य हिस्सों में भी लागू करने का वादा किया है। साथ ही कहा गया है कि घुसपैठ को लेकर हमारी जीरो टॉलरेंस की नीति रहेगी।

भाजपा ने अपने घोषणा पत्र में ऐलान किया है कि वह सुरक्षा बलों को मजबूत करेगी। इसमे कहा गया है कि सुरक्षाबलों को मजबूत बनाना- हम रक्षा से जुड़े बाकी उपकरणों और हथियारों की खरीद तेज करेंगे। सुरक्षाबलों की हमला करने की क्षमता को औऱ मजबूत बनाने हेतु सैन्यबलों को अधुनिक उपकरण प्रदान करने के लिए हम सघन प्रयास जारी रखेंगे। रक्षा उपकरणों में देश को आत्मनिर्भर बनाने में सरकार ने प्रभावी कदम उठाए हैं। इसमें अमेठी मे मेक इन इंडिया के तहत एके-203 ऑटोमेटिक राइफल्स बनाने की फैक्ट्री है। इसके अलावा रोजगार सृजन के लिए रक्षा क्षेत्र में निवेश को बढ़ावा देना है।

भाजपा ने अपने घोषणा पत्र में नागरिकता संशोधन अध्यादेश को लेकर भी बड़ी बात कही है। इसमे कहा गया है कि हम पड़ोसी देशों के प्रताड़ित धार्मिक अल्पसख्यकों के संरक्षण के लिए सिटीजनशिप अमेंडमेंट बिल को लागू करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम पूर्वोत्तर राज्यों के उन वर्गों के लिए मुद्दों पर स्पष्ट करने के लिए सभी प्रयास करेंगे। भारत के पड़ोसी देशों से आए सभी हिंदू, जैन, बौद्ध, सिख को उन देशों में धार्मिक प्रताड़ना के आधार पर भारत में नागरिकता दी जाएगी।

भाजपा ने अपने घोषणा पत्र में नागरिकता संशोधन अध्यादेश को लेकर भी बड़ी बात कही है। इसमे कहा गया है कि हम पड़ोसी देशों के प्रताड़ित धार्मिक अल्पसख्यकों के संरक्षण के लिए सिटीजनशिप अमेंडमेंट बिल को लागू करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम पूर्वोत्तर राज्यों के उन वर्गों के लिए मुद्दों पर स्पष्ट करने के लिए सभी प्रयास करेंगे। भारत के पड़ोसी देशों से आए सभी हिंदू, जैन, बौद्ध, सिख को उन देशों में धार्मिक प्रताड़ना के आधार पर भारत में नागरिकता दी जाएगी।