उत्तराखंड के रुद्रपुर में गंगापुर गांव में रहने वाले राणा प्रताप सिंह (35) को पत्नी के साथ आपत्तिजनक हालत में देखकर पति ने आपा खो दिया।

इसी गुस्से में उसने उसका बेदर्दी से कत्ल कर दिया। आरोपी इसके बाद राणा प्रताप का शव बोरे में भरकर उसकी ही स्कूटी से 300 मीटर दूर फेंक आया।

इधर आरोपी की पत्नी ने छत पर बिखरे खून को साफ किया। पुलिस ने हत्यारोपी के साथ उसकी पत्नी को सबूत मिटाने के आरोप में कोर्ट में पेश किया, जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया।

बृहस्पतिवार को ट्रांजिट कैंप थाना क्षेत्र में धारदार हथियार से युवक की हत्या करके बोरे में भरकर फेंके गए शव मामले का एसएसपी बरिंदरजीत सिंह ने शुक्रवार को खुलासा कर दिया।

एसएसपी ने बताया कि मूल रूप से छपरा बिहार का रहने वाला अनिल अपनी पत्नी रुकमणी के साथ फुलसुंगी में रहता है और अनिल की मृतक राणा प्रताप से दोस्ती थी।

इसलिए अनिल का घर पर आना-जाना था। बुधवार शाम अनिल ने घर पर मछली बनी होने की बात कहकर राणा प्रताप को घर खाने पर बुलाया था।

अनिल के घर पहुंचने पर राणा प्रताप ने उससे कोल्ड ड्रिंक लाने को कहा। अनिल जब कोल्ड ड्रिंक लेकर वापस आया तो उसने पत्नी को राणा प्रताप के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया।

इससे नाराज अनिल ने राणाप्रताप को छत पर ले जाकर पहले डंडे से उसके सिर पर वार किया फिर छत पर पड़ी ईट से उसके सिर और चेहरे पर कई वार करके उसे मार डाला।

अनिल ने राणा प्रताप के हाथ पैर बांधे और शव को बोरे में डालकर राणा प्रताप की स्कूटी से घर से 300 मीटर दूर फुलसुंगी श्मशान घाट के पास पहुंचा और शव को स्कूटी समेत झाड़ियों में फेंक कर लौट गया।

घटना के खुलासे के लिए एसपी सिटी देवेंद्र पींचा और एसपी क्राइम प्रमोद कुमार के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया।

हत्या के साक्ष्य मिलने के बाद हत्यारोपी अनिल के साथ ही उसकी पत्नी रुकमणी को उनके घर से ही गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेजा गया है।