Home > India > ‘माता रानी’ से मिलने के लिए युवती ने किया सुसाइड

‘माता रानी’ से मिलने के लिए युवती ने किया सुसाइड

suicideगाजियाबाद- दिल्ली से सटे गाजियाबाद में शुक्रवार को एक पीएचडी कर रही युवती की आत्महत्या को लेकर पुलिस पशोपेश में दिखाई दे रही है ! युवती के सुसाइड नोट ने जहाँ सबको चौंका दिया है वहीँ एक पढ़ी लिखी युवती द्वारा अन्धविश्वास को लेकर भी पुलिस काफी सक्ते में दिखाई दे रही है ! अब इस मामले में पुलिस को पोस्टमार्टम रिपोर्ट और सुसाइड नोट की विश्वसनीयता की रिपोर्ट का इंतजार है।

दरअसल मृतक युवती शादीशुदा महिला है जिसने पंखें मे फंदा लगा कर खुदखुशी कर ली। महिला यूपी के सीतापुर से पीएचडी कर रही थी। महिला की आत्म हत्या की वजह ने सबको चौंका दिया है। सुसाइड नोट में महिला ने लिखा है कि उसकी आत्मा से परमात्मा का मिलन होने जा रहा है। उसके जीवन चक्र का वक्त पूरा हो गया है। वो आत्महत्या करते हुए बेहद प्रसन्न है। चौंकाने वाली बात ये भी है कि लडकी का परिवार कोई कारवाई भी नहीं चाहता।

गाजियाबाद के कविनगर इलाके की रुकमिणी की खुदकुशी, गम, सदमे, निराशा या दुखों से भरी कहानी नहीं, बल्कि यह अध्यात्म की दुनिया में अंधविश्वास करने वाली महिला की हकीकत जान पड़ती है। घर की छत से टंगे पंखे से लटक कर जान देने से पहले सुसाइड नोट में रुकमिणी ने जो कुछ लिखा, उसकी हर तरफ चर्चा है। सुसाइड नोट की शुरुआत जय श्री कृष्ण और जय श्री राधे से हुई है और मौत की वजह बताने के हर शब्द अध्यात्म में डूबे, उसने लिखा है कि मां ने मुझे जो आदेश दिया है मैं उसका पालन कर रही हूं। शरीर नश्वर है। यह अपना कर्तव्य पालन करके जीनव चक्र पूर्ण होने पर प्रभु में आत्मा स्वरूप में लीन हो रहा है। इसके लिए कोई भी कष्ट न करे और दुखी न हो।

उसने ये भी लिखा कि मम्मी, पापा, अनुराग, पूजा, जिम्मी आप लोगों के सान्धिय मे व्यतीत हुआ समय मेरे जीवन काल का स्वर्णिम काल था। इसके लिए आपकी आभारी हूं। मां से प्रार्थना करूंगी कि आप लोगों को सदैव सुख, समृद्धि, शांति और उत्तम स्वास्थ्य प्रदान करे। जीवन के अंतिम पल में अपने सभी संबंधियों को शुभकामनाएं दे रही हूं। आप सभी प्रेमपूर्ण जीवन व्यतीत करें। आपके जीवन में खुशियां और उल्लास बनी रहे। मेरे ससुराल के सभी लोगों से मुझे प्यार और अपनत्व मिला। आप सब को प्रणाम। आप सबकी उपस्थिति से मेरे जीवन में खुशियों की वृद्धि हुई। इसके लिए आपका धन्यवाद। आप कोई भी मेरे लिए दुखी न हो और इसे मां की प्रसन्नता का कार्य समझकर संतोष करें। आपको सुख-शांति प्राप्त हो।

रुकमिणी ने सुसाइड नोट के आखिर में भी माता का जयजयकार किया, लेकिन मौत की ये वजह पुलिस भी हजम नहीं कर पा रही है। पुलिस को पोस्टमार्टम रिपोर्ट और सुसाइड नोट की विश्वसनीयता की रिपोर्ट का इंतजार है।

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com