अयोध्या पहुंचे शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने राम मंदिर मुद्दे को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा।

उन्होंने कहा कि हमें आज मंदिर बनाने की तारीख चाहिए। पहले मंदिर कब बनाओगे वो बताओं, बाकी बातें तो बाद में होती रहेंगी। आज मुझे तारीख चाहिए।

उन्होंने कहा कि मैं यहां पर कोई राजनीति करने नहीं आया हूं। मैं सोए हुए कुंभकरण (सरकार) को जगाने आया हूं। किए गए वादे को पूरा करना भी हिंदुत्व है।

उद्धव ने कहा कि राममंदिर निर्माण को लेकर एक लंबे समय से वादा किया जा रहा है लेकिन न कानून लाया जा रहा है और न ही सरकार कुछ करती दिखाई दे रही है। सब कोई चाहता है कि राममंदिर बने। हम सब मिलकर बनाएंगे तो मंदिर जल्दी बन जाएगा।

ठाकरे ने कहा कि पहले अटल जी की केंद्र में सरकार थी। मिलीजुली सरकार में राम मंदिर को लेकर कानून बनाना एक कठिन काम हो सकता है। पर अब तो केंद्र में पूर्ण बहुमत की सरकार है।

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार है। अब राममंदिर निर्माण हो ही जाना चाहिए। ठाकरे ने कहा कि मैं वचन देता हूं कि राममंदिर बनेगा तो मैं रामभक्त बनकर रामलला के दर्शन करने आऊंगा।

लक्ष्मण किला मैदान में आयोजित आशीर्वाद सभा में उद्धव ठाकरे अपने परिवार सहित पहुंचे और गणेश पूजन कर कार्यक्रम की शुरुआत की।

सभा में संतों के साथ बड़ी संख्या में शिवसैनिक मौजूद रहे। आशीर्वाद सभा में भाग लेने के बाद उद्धव ठाकरे सरयू आरती के लिए पहुंचे।

उद्धव ठाकरे के अयोध्या पहुंचते ही नगर को पूरी तरह सील कर दिया गया है। मुख्य मार्ग पर बैरीकेडिंग कर दी गई है। दूसरी सड़कों से लोगों को मोड़ा जा रहा है।

मुख्य सड़क प्रतिबंधित होने से आम लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। लोग अपने घर नहीं पहुंच पा रहे हैं। इसके पहले उद्धव ठाकरे अपने चार्टर प्लेन से परिवार सहित अयोध्या पहुंचे।

एयरपोर्ट पर शिवसैनिकों ने उनका स्वागत किया। एयरपोर्ट से वह पंचवटी होटल चले गए। जहां से वह लक्ष्मण किला मैदान पहुंचे।

इस बीच अयोध्या में मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी की आवास की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। मुख्य मार्ग से आवास की तरफ जाने वाली सड़क कर दिया गया। घर के दोनों तरफ आरएएफ की कंपनी तैनात कर दी गई साथ ही सिविल पुलिस को भी तैनात कर दिया गया है।

शिवसेना के कार्यक्रम को लेकर कुछ लोगों ने विरोध जताया है। महाराष्ट्र में यूपी और बिहार के लोगों के साथ हो रहे अत्याचार को लेकर लोग सड़कों पर उतर आए।

हजरतगंज के सामने सामाजिक संगठन के कार्यकर्ताओं ने उद्धव ठाकरे का पुतला फूंका।