पूछताछ में पता चला है, कि इरफान शेख नाम का यह व्यक्ति मुंबई का रहने वाला है और अंडरवर्ल्ड सरगना छोटा शकील गिरोह का शार्प शूटर है। इरफान ने यह भी कबूल किया कि वो कल सुबह ही अहमदाबाद आया और उसने गुजरात भाजपा के मुख्यालय जाकर रेकी भी की। एटीएस और क्राइम ब्रांच की टीम इरफान से और जानकारी जुटाने में जुटी हुई है। छोटा शकील, दाउद इब्राहिम का दाहिना हाथ माना जाता है और वो भी कराची में दाउद के साथ ही रहता है।

गुजरात एटीएस ने छोटा शकील गैंग के शार्प शूटर को गिरफ्तार करने में बड़ी सफलता पाई है। डीआईजी हिमांशु शुक्ला को मंगलवार शाम जानकारी मिली थी कि छोटा शकील गैंग का शार्प शूटर अहमदाबाद के एक होटल में रुका हुआ है।

इस टिप ऑफ के आधार पर बीती देर रात हिमांशु शुक्ला और क्राइम ब्रांच के डीसीपी दीपेन भद्रन की अगुआई में एक संयुक्त टीम ने अहमदाबाद के रिलीफ रोड इलाके में एक होटल पर छापा मारा और शार्प शूटर को गिरफ्तार कर लिया। जानकारी में सामने आया है कि वह भाजपा नेता गोरधन झड़ाफिया की हत्या के इरादे से आया था।

जानकारी के अनुसार पुलिस को सूचना मिली थी कि होटल के कमरे में दो लोग हैं, ऐसे में एक व्यक्ति को पकड़ने के बाद दूसरे की तलाश की जा रही थी कि कमरे में मौजूद व्यक्ति अपनी पीछे की जेब से पिस्टल निकाल कर एटीएस के अधिकारी पर फायरिंग करने लगा। अधिकारी ने ये देखते हुए उसे झपट्टा मारा तो पिस्टल से निकली गोली दीवार पर जा लगी। इसके बाद पुलिसकर्मियों ने उसे धर दबोचा।

इरफान का राज खुलते ही भाजपा नेता गोरधन झड़ाफिया की सुरक्षा में तत्काल बढ़ा दी गई है। झड़ाफिया आज सुबह ही भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल के साथ चार दिन के सौराष्ट्र प्रवास पर निकले हैं। झड़ाफिया नरेंद्र मोदी के मुख्यमंत्री रहते हुए थोड़े समय के लिए गुजरात के गृह राज्य मंत्री भी रहे थे, 2002 दंगों के वक्त भी झड़ाफिया ही गृह राज्य मंत्री थे। 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान वो उत्तर प्रदेश में भाजपा प्रभारी थे।