Home > State > Harayana > मैं इंसान नहीं हूं, जो लड़का व लड़की में फर्क समझूं

मैं इंसान नहीं हूं, जो लड़का व लड़की में फर्क समझूं

beti-fullकैथल – बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ तभी तो भारत का भाग्य बदलेगा। संसार चक्र को चलाने के लिए महिला की भी पुरूषों के बराबर ही महत्ता है। माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का राष्ट्रीय कार्यक्रम बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का यह संदेश जन-जन तक पहुंचाने के लिए प्रदेश के सूचना जन संपर्क एवं सांस्कृतिक कार्य विभाग द्वारा विशेष प्रचार अभियान चलाया जा रहा है। इस कार्यक्रम में विभागीय वीडियो वैन के माध्यम से ग्रामीण अंचल में लोगों को प्रधानमंत्री का संदेश स्क्रीन के माध्यम से दिया जा रहा है।

इसके अतिरिक्त जसपाल भट्टी की नन्ही चीडिय़ा नाम एनीमेशन फिल्म का भी प्रदर्शन  करके लोगों को लड़का एवं लड़की में भेदभाव न करने का संदेश दिया जा रहा है। इस फिल्म में यह दर्शाया गया है कि मैटरनिटी वार्ड में एक चिडिय़ा नन्हे बच्चे को जन्म देती है। इसकी सूचना जब नर चिड़े को मिलती है, तो वह खुशी से झूम उठता है। वार्ड की स्टाफ नर्श जब चिड़े से यह प्रश्र करती है कि आपने यह तो पूछा ही नही कि नन्हा बच्चा नर है या मादा, तो नर चिड़ा मनुष्यों पर व्यंग्य कसते हुए कहा है कि मैं कोई इंसान नही हूं, जो लड़के व लड़की में फर्क समझूं। इसके अतिरिक्त महिला सशक्तिकरण पर आधारित वृत चित्र में यह दर्शाया गया है कि महिलाएं किसी भी क्षेत्र में पुरूषों से पीछे नहीं है। यदि लड़कियों को लड़कों के समान सुविधाएं तथा अवसर प्रदान किए जाएं, तो वे किसी भी मंजिल को प्राप्त कर सकती हैं।

इस वृत चित्र में उच्च शिक्षा प्राप्त करके विभिन्न लड़कियों ने वकील, अध्यापक, संगीतकार, कलाकार, खिलाड़ी, सेना तथा पुलिस में उच्च पदों को प्राप्त किया है। ऐसी ही एक लड़की गुनगुनाते हुए कहती है कि मैं खुशी हूं, मैं प्यार हूं, जिंदगी का मैं सार हूं। बंटी और बबली एनीमेशन वीडियो के माध्यम से शिक्षा का अधिकार को बखूबी दर्शाया गया है। इस वीडियो से लड़का-लड़की एक समान, सबको शिक्षा सबको प्यार का संदेश दिया गया है।जिला सूचना एवं जन संपर्क कार्यालय की वीडियो वैन द्वारा यह कार्यक्रम रसुलपुर गामड़ी स्थित कश्यप चौपाल में प्रस्तुत किया गया, जिसको ग्रामीणों ने रूचि से देखा। वीडियो वैन की टीम में रणबीर सिंह, सतपाल शर्मा, शेर सिंह शामिल रहे। नन्ही चिडिय़ां एनीमेशन फिल्म द्वारा दिए गए संदेश को बारे में ग्रामीण सोचने पर मजबूर हुए कि पक्षियों की मानसिकता भी लड़का-लड़की के बारे में मनुष्यों से कितनी महान है।

इस अवसर पर ग्रामीणों में रमेश कुमार, जनक राज, धारा राम, प्रेम चंद, कृष्ण कुमार,नीटू तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे। इस प्रचार अभियान के बारे में जिला सूचना एवं जन संपर्क अधिकारी श्री रणधीर शर्मा ने बताया कि एक जनवरी से शुरू हुआ यह प्रचार अभियान 22 जनवरी तक जिला के सभी शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों को कवर करेगा। अब तक वीडियो वैन द्वारा 7 गांवों में प्रचार किया जा चुका है तथा विभागीय भजन पाॢटयों द्वारा भी 16 गांवों में लोक गीतों के माध्यम से बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के बारे में लोगों को जागरूक किया जा चुका है।

रिपोर्ट – राजकुमार अग्रवाल

Facebook Comments

Our News Network and website neither have any collaboration and connection directly nor indirectly with “India Today Group/ITG” ,TV Today Network, Channel Tez TV media group .