नई दिल्ली- ब्रिटिश मोबाइल सर्विस प्रदाता कंपनी वोडाफोन और भारतीय मोबाइल सर्विस प्रदाता कंपनी आइडिया सेल्युलर के विलय की घोषणा हो गई है। इसके साथ ही अब यह संयुक्त रूप से भारत की सबसे बड़ी दूरसंचार ऑपरेटर कंपनी बन गई है। इस विलय के बाद कंपनी के कुल सब्‍सक्राइबर की संख्‍या 39 करोड़ के पास पहुंच जाएगी।

पिछले काफी समय से वोडाफोन और आइडिया के विलय की खबरें आ रही थीं। रिलायंस जियो के आने के बाद दोनों कंपनियों की कमाई पर भारी असर पड़ा था। हालांकि विलय की खबरों के चलते आइडिया के शेयर में खासी तेजी देखने को मिली थी। करीब 8 महीने तक चली लंबी बातचीत के बाद दोनों कंपनियों ने इस विलय को मंजूरी दे दी।

जानकारी के मुताबिक विलय के बाद नई कंपनी में आइडिया का शेयर 26 फीसदी और वोडाफोन का 45 फीसदी शेयर होगा। विलय की घोषणा के बाद कंपनी के अधिकारियों ने कहा कि उनका उद्देश्य ग्राहकों को सबसे अच्छी सेवा प्रदान करना होगा। अधिकारियों के मुताबिक भविष्य में दोनों कंपनियों का शेयर बराबर हो जाएगा।