Home > India > हिंदू-मुस्लिम विवाद सुलझाने के लिए गृहयुद्ध चाहते थे जन संघ संस्थापक

हिंदू-मुस्लिम विवाद सुलझाने के लिए गृहयुद्ध चाहते थे जन संघ संस्थापक

त्रिपुरा के गवर्नर तथागत रॉय के एक ट्वीट को लेकर बवाल मच गया है। 18 जून को किए गए उनके एक ट्वीट को लेकर यह विवाद हुआ है। अपने ट्वीट में तथागत रॉय ने भारतीय जन संघ (अब भारतीय जनता पार्टी) के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बारे में ट्वीट करते हुए लिखा है कि मुखर्जी हिंदू-मुस्लिम विवाद सुलझाने के लिए गृहयुद्ध चाहते थे। रॉय ने दावा किया है कि उन्होंने यह बात 1946 में श्यामा प्रसाद मुखर्जी की एक डायरी एंट्री के हिस्से से किया है।

अपने इस ट्रवीट के लिए उनकी सोशल मीडिया पर काफी आलोचना भी हुई। कई लोगों ने उनकी गृहयुद्ध भड़काने के लिए आलोचना भी की जिसकी सफाई पेश करते हुए उन्होंने कहा कि वह गृहयुद्ध भड़काने की नहीं बल्कि मुखर्जी की बात को कोट कर रहे थे।

अपने इस ट्वीट के बाद रॉय सोशल मीडिया पर ट्रोल भी हो गए। लोगों ने आलोचना कहा कि साम्प्रदायिक हिंसा भड़काने के लिए उनकी गिरफ्तारी की जाए। मामले को लेकर इंडियन एक्सप्रेस ने रॉय से बात करने की कोशिश की लेकिन उनकी तरफ से कोई जवाब नहीं आया।

रॉय ने कहा कि वह 70 साल पुरानी एक डायरी के हवाले से यह बात कह रहे थे। उन्होंने लिखा- “गृहयुद्ध की बात भारत के विभाजन से पहले की थी और यह भविष्यवाणी तब सच साबित हो गई जब जिन्न ने इसके सात महीने बाद गृहयुद्ध छेड़ दिया और पाकिस्तान हासिल करने में कामयाब रहे। इन बातों के सच साबित होने का डॉ. मुखर्जी ने अनुमान लगाया था।”

बता दें इससे पहले भी कई बार तथागत राय के ट्विट से विवाद हो गया था। अगस्त 2015 में मुंबई 1993 बम धमाकों के दोषी याकूब मेमन के ट्विट को लेकर विवाद खड़ा हो गया था। उन्होंने ट्वीट में लिखा था कि याकूब मेमन के अंतिम संस्कार में शामिल होने वाले लोग संभावित आतंकवादी हो सकते हैं और उन लोगों पर कड़ी नजर रखनी चाहिए।

 

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com