Home > State > Harayana > सीएमओ वंदना भाटिया के खिलाफ कब होगी कारवाही ?

सीएमओ वंदना भाटिया के खिलाफ कब होगी कारवाही ?

ambulance

करनाल [ TNN ] आज से लगभग डेढ साल पहले युवा बोलेगा के सदस्यों ने (आईसी) संस्था के तहत कल्पना चावला मैडिकल कॉलेज में जाकर स्वास्थय विभाग के करनाल में मौजूद उच्च अधिकारी और कर्मचारियों की मिली भगत से हो रहे भ्रष्टचार के खिलाफ फूड सैंपलिंग, फूड लाईसेंस, फूड रजिस्ट्रेशन के नाम पर पैसा इकट्टा करने वालों के खिलाफ आवाज उठाई थी। और भ्रष्टाचार की बातचीत का एक सीडी में खुलासा किया गया था। जिस सीडी में डिप्टी सीएमओ बाबूराम और चतुर्थ श्रेणी वेद प्रकाश कर्मचारी की आपस में पैसा इक करने की बातचीत सुनाई गई थी।

इसके अलावा इन सदस्यों ने सीएमओ वंदना भाटिया के समुख 10 बातों का जवाब माँगा था। जिसमें ब्लड समय पर न देना, डिलीवरी के समय गरीब लोगों के बच्चों को उल्टा बताना, पानी की कमी बताना इत्यदि बातों से रोगियेां को इलाज के लिए रैफर का बहाना बनाना इत्यदि बातों का जवाब मांगा गया था। परंतु कांग्रेस की सरकार में इन अधिकारियों की साठ गांठ इस तरह से थी कि पूरी तरह से करनाल की आम जनता को लूटा जा रहा था। आंदोलनकारियों को इन बातों की सारी जानकारी जिस इमानदार डा. रिषी राज गौतम द्वारा बताई गई थी। उस डाक्टर का दलगत राजनीति के कारण और सीएमओ वंदना भाटिया के लंबे हाथ होने के कारण ट्रांसफर करवा दिया गया।

उसी दौरान डा. रिषि राज गौतम ने आंदोलनकारियों की सलाह अनुसार उच्च न्यायालय में मामला दर्ज करवा दिया। उच्च न्यायालय के निर्देश अनुसार मधुबन एसएफएल में उस सीडी की जांच करवाई गई जिसमें रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई। चौकसी विभाग द्वारा आंदोलनकारियों के दबाव में और हाईकोर्ट के डर के कारण यह रिपोर्ट मुख्यमंत्री को भेजी गई।

मुख्यमंत्री के चीफ सैक्ट्री ने 17-12 को डा. बाबू राम व चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी वेद प्रकाश भ्रष्टाचार अधिनियम की धारा सैक्शन 7, 13(1)डी, 13(2) के तहत महानिदेशक राज्य चौकसी ब्यूरो हरियाणा (पंचकूला) यशपाल सिंगल आईपीएस, को मुकद्दमा दर्ज करके एफआईआर की कॉपी हरियाणा सरकार को भिजवाने के आदेश दे दिए हैं और साथ में राजेंद्र सिंह फूड इंसपैक्टर जिसके तहत सीडी में पैसा इकट्ठा करने की बात आई हुई थी उसके विरूद्ध नियम 7 के तहत अनुसाधनिक अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य विभाग हरियाणा सरकार रामनिवास आईएएस को कार्रवाई के आदेश दे दिए हैं।

इसी के तहत युवा बोलेगा के सदस्यों ने न्यायपूर्ण कार्रवाई के लिए मुख्यमंत्री का स्वागत किया है। और मुख्यमंत्री से मांग की है कि सीएमओ वंदना भाटिया को जिसने आरापियों को बचाने का प्रयास किया है और अपने पद का दरूपयोग किया है उसका तुरंत सीएम सीटि से तबादला किया जाए और कार्रवाई करके निलंबित किया जाए।

जेपी शेखपुरा ने कहा कि गुप्त सूत्रों से पता चला है कि सीएमओ वंदना भाटिया ने बाबूराम को गिरफ्तारी से बचाने के लिए एक सप्ताह पहले ही छुट्टी पर भेज दिया है। ऐसे ईमानदार अधिकारियों को जो भ्रष्टचार के विरूद्ध लडाई लड़ता रहा उसको सम्मानित किया जाए और बदले की भावना से की गई ट्रांसफर को वापिस सीएम सिटी करनाल में लाया जाए। प्रैस वार्ता के अनुसार साथ में तरावड़ी प्रभारी हरीश मदान, करनाल मीडिया प्रभारी रोहित लामसर, करनाल प्रभारी युद्धवीर सिंह, रजनीश, प्रदीप गुप्ता इत्यदि मौजूद थे।
रिपोर्ट -अनिल लाम्बा

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com