नई दिल्ली – दिल्ली के ऐंटी करप्शन ब्यरो ( एसीबी) के लिए बिहार और यूपी से पुलिस अधिकारी मांग रहे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को डबल झटका लगा है । बिहार के डीएसपी संजय भारती ने दिल्ली में एसीबी जॉइन करने से इनकार कर दिया है। उन्होंने जॉइन न करने के लिए स्वास्थ्य कारणों का हवाला दिया है। यही नहीं, अरविंद केजरीवाल ने एसीबी के लिए उत्तर प्रदेश से भी 13 पुलिस अधिकारी मांगे थे, लेकिन राज्य सरकार ने अपने यहां पुलिस ऑफिसरों की कमी बताकर ऐसा करने में असमर्थता जता दी।

दिल्ली सरकार ने बिहार से एक डीएसपी और 5 इंस्पेक्टर और सब-इंस्पेक्टर समेत 6 पुलिस ऑफिसरों को एसीबी में डेप्युटेशन पर बुलाया था। इसमें तीन ऑफिसर पहले ही एसीबी जॉइन कर चुके हैं। इससे पहले दिल्ली के एलजी सीएम के इस फैसले पर सवाल खड़े करने के साथ ही एसीबी को अपने अधीन बता चुके हैं।

दिल्ली के उप राज्यपाल नजीब जंग और मुख्यमंत्री के बीच जारी खींचतान से हाल ही में एसीबी जॉइन करने वाले पुलिस अधिकारी भी परेशान हैं। इसी बीच, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने भी एलजी और सीएम के बीच जारी जंग में एलजी नजीब जंग का समर्थन किया है।

गृह मंत्रालय ने कहा कि एसीबी में कोई भी नियुक्ति उप राज्यपाल की मंजूरी के बिना नहीं हो सकती। गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि दंड प्रक्रिया संहिता के तहत एसीबी एक थाना है और दिल्ली में पुलिस उप राज्यपाल के अधीन ही है।

केजरीवाल ने बिहार-यूपी के अलावा उत्तराखंड सरकार से भी अधिकारी मांगे थे। उत्तराखंड सरकार ने कहा है कि वह केजरीवाल के अनुरोध पर विचार करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here