Home > India News > खंडवा : भंसाली के सीने में शीशा न उतर दूँ तो मैं सरदार की औलाद नहीं

खंडवा : भंसाली के सीने में शीशा न उतर दूँ तो मैं सरदार की औलाद नहीं

खंडवा : फिल्म पद्मावत के प्रदर्शन को रोकने के लिए राज्य सरकारों की पुनर्विचार याचिका सुप्रीम कोर्ट ने ख़ारिज कर दी। साथ ही राज्य सरकारों को कानून व्यवस्था को कायम रखने की हिदायत भी दी बावजूद इसके पुरे देशभर में फिल्म के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं। खंडवा में एक व्यक्ति ने संजय लीला भंसाली के सीने में 25 ग्राम शीशा घुसा कर मारने की धमकी तक दे डाली।

खंडवा में फिल्म पद्मावत के विरोध में करणी सेना आह्वाहन पर शांति मार्च निकला गया। जो शहर के मुख्य मार्गो से होता हुआ नगर निगम चौक पर पहुंची। करणी सेना ने हिन्दू समाज सभी वर्गों को शांति मार्च में शामिल किया था। ज्ञापन के पूर्व सभी समाज मुख्य लोगों ने सभा को सम्बोधित किया। सिख समाज की और से बोलते हुए समाज के अध्यक्ष सुरजीत राजपाल ने अपने उद्भोधन में भंसाली के सीने में 25 ग्राम शीशा घुसाने की धमकी तक दे डाली। दरअसल उन्होंने फिल्म के विरोध में बोलते हुए कहा की तूने (भंसाली ने ) पैसा कमाने के लिए फिल्म बनाई हैं अगर तुझे पैसे की इतनी हवस है तो राजपूत समाज तुझे पैसा इकठ्ठा कर के दे देगा तू ये फिल्म बंद कर दे। और अगर तुझे समझ नहीं आ रहा राजपूत समाज शांति से समझा रहा हैं। अगर ये अपने पुराने इतिहास पर आ गया और तलवारें निकल ली तो तुझे भागते जगह नहीं मिलेंगी। वे यहीं नहीं रुके उन्होंने आगे कहा कि तेरे में (भंसाली में) हिम्मत हैं तो एकबार गुरु के इतिहास पर फिल्म बना के देख ले 25 ग्राम शीशा तेरे सीने में न धस जाए तो मै सरदार की औलाद नहीं ।

उधर करणी सेना के नगर अध्यक्ष मंगलेश तौमर ने कहा करणी सेना पूर्ण रूप से अनुशासित संगठन हैं। हम लोग शांतिपूर्ण तरीके से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। आगे भी बिना किसी हिंसा किए शांति के साथ अपनी बात रखेंगे। श्री तौमर ने कहा कि अभिवयक्ति की आज़ादी के आधार पर सुप्रीम कोर्ट ने फिल्म को प्रदर्शन की इज़ाज़त दी मगर हमारी अभिव्यक्ति का क्या। राजपूत समाज भी भारत देश का नागरिक हैं प्रजातांत्रिक व्यवस्था में विश्वास रखता हैं साथ ही माननीय न्ययालय का पूरा सम्मान करता हैं। अगर फिल्म का प्रदर्शन हुआ तो हमारी भावनाएं आहत होगी अगर किसी भी सरकार ने हमारी बात को नहीं माना तो हम लोग आने वाले चुनाव में नोटा का बटन दबाएंगे। हम किसी भी पार्टी के साथ नहीं जायंगे। हमारे पास प्रजातांत्रिक अधिकार के तहत वोटिंग पावर जिस के आधार पर सरकारें बनती है। अब हम लोग देखेंगे की कौनसी पार्टी हमारे साथ खड़ी होती है। क्या रास्ता निकलती हैं।

रिपोर्ट @तुषार सेन / संजय पटेल

Facebook Comments
Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com