Home > India > पंछियों का कंठ तर करने खंडवा पहुंचा एक मसीहा

पंछियों का कंठ तर करने खंडवा पहुंचा एक मसीहा

khandwa water news sunil jain photoखंडवा: भीषण गर्मी में ताल-तालाब सूख गए हैं। जंगल तो क्या शहरों में भी पंछियों की प्यास नहीं बुझ पा रही है। ऐसे संकटकाल में उनके लिए एक मसीहा देश भर घूम रहा है। शंखपुष्पी महाराज इसी मिशन को लेकर खंडवा पहुंचे। उन्होंने 3 हजार पक्षियों को पानी पिलाने वाले पात्र शहरातियों को बांटे। वे अब तक 3 लाख सत्तर हजार पात्र देश में बांट चुके हैं, जिनसे पक्षी प्यास बुझा रहे हैं।

इसमें हम और आपका सहयोग भी महत्वपूर्ण है। महाराज ने कहा कि यदि आपको पात्र नहीं मिलता है, तो दो चार रूपए खर्च कर खुद भी खरीदकर इसे घर के उस स्थान पर पानी भरकर रखें, जहाँ से उड़ते पंछी प्यास बुझा सकें। यह बड़ा मानव धर्म है।

राष्ट्रव्यापी पक्षी बचाओ अभियान प्रमुख शंखपुष्पी महाराज ने बताया कि खंडवा शहर में तीन हजार जल पात्र लगाए गए। इन पात्रों के दानदाता दीपू अग्रवाल मिठाई वाला एवं ओम अग्रवाल, सुनील अग्रवाल, सुनील बंसल के सहयोग से किया गया।

राष्ट्रव्यापी पक्षी बचाओ अभियान पक्षी प्याऊ का उद्घाटन विधायक देवेन्द्र वर्मा, महापौर सुभाष कोठारी एवं समाजसेवी व पार्षद सुनील जैन, कमल किशोर बंसल की उपस्थिति में किया गया। इस अवसर पर विधायक श्री वर्मा ने कहा कि पक्षियों को बचाना चाहिए जो कि राष्ट्र की धरोहर है। महापौर श्री कोठारी ने कहा कि पशु-पक्षी की सेवा भगवान की सेवा है।

सुनील जैन ने कहा कि जीव दया ही सबसे बड़ा मानव धर्म है। भगवान महावीर ने अहिंसा और जियो और जीने दो का जो संदेश दिया उसका तात्पर्य यह है कि सभी प्राणी मात्र की रक्षा हम करें। इस भीषण गर्मी में मानव तो अपनी प्यास कैसे भी बुझा लेता है लेकिन बेजुबान पक्षी पानी के अभाव में दम तोड़ देते हैं। उनकी रक्षा के लिए हमें कदम बढ़ाने होंगे।

पक्षी बचाओ के दानदाता दीपू अग्रवाल ने कहा कि पक्षियों को पानी पिलाना सबसे बड़ा मानव धर्म है। पार्षद सोमनाथ काले ने भी इस पुण्य कार्य की सराहना करते हुए आयोजकों को धन्यवाद दिया। इस राष्ट्र पक्षी बचाओ अभियान प्रमुख शंखपुष्पी महाराज ने मप्र, छत्तीसगढ़, हैदराबाद में अभी तक तीन लाख सत्तर हजार पात्र वितरित कर दिए है ।

इस कार्य में जेएस राजपूत, श्री तायड़े, श्री यादव, सभी प्रशिक्षण अधिकारी एवं आईटीआई की कामिनी, दामिनी शर्मा, मनीषा राठौर, पूजा, निर्मला बछानिया, ओमप्रकाश यादव, ज्ञानसिंह पंवार, शुभम मंडलोई एवं सुरेश निगवाल सहयोग कर रहे हैं।

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com