लंदन में रमजान के माह में एक और हमले ने लोगों को डरा दिया। सोमवार को जब लोग प्रार्थना के लिए फिन्सबरी पार्क मस्जिद में स्थित मुस्लिम वेलफेयर हाउस में इकट्ठा हुए थे तो एक व्यक्ति ने उन पर तेज रफ्तार से गाड़ी चढ़ा दी। इस हमले में एक व्यक्ति की मौत हो गई तो वहीं 10 लोग घायल हो गए। ब्रिटिश न्यूजपेपर डेली मेल के मुताबिक हमलावर चिल्ला रहा था कि वह सभी मुसलमानों को मार डालेगा।

48 वर्ष का है हमलावर

ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा  ने कहा है कि इस घटना को संभावित आतंकी माना जा रहा है। अगर यह आतंकी हमला हुआ तो फिर मार्च से लेकर अब ब्रिटेन इस तरह के आतंकी हमलों का सामना कर चुका है। एक प्रत्यक्षदर्शी अब्दुल रहमान सालेह अलामउदी ने बताया कि एक बड़ी सी गाड़ी अचानक से उनकी तरफ आई और बस कुछ ही सेकेंड्स में लोगों के ऊपर से गुजर गई।

इस प्रत्यक्षदर्शी ने जानकारी दी कि हमलावर जोर-जोर से चिल्ला रहा था, ‘मैं सभी मुसलमानों को मार डालूंगा।’ वहीं पुलिस ने बताया है कि एक व्यक्ति की मौत हो गई है और हमलावर की पहचान परिवारवालों ने कर ली है। इस व्यक्ति की उम्र 48 वर्ष है और इसे गिरफ्तार कर लिया गया है। अब इसकी मानसिक हालत की जांच की जाएगी।

फिर से पीएम आईं निशाने पर
यह हमला ऐसे समय में हुआ है जब ब्रिटेन राजनीतिक उथल-पुथल से गुजर रहा है। आठ जून को ब्रिटेन में चुनाव हुए तो पीएम मे की स्थिति कमजोर साबित हुई। पिछले दिनों जब लंदन के ग्रेफेल टॉवर पर आग लगी तो पीएम थेरेसा को कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ा। ब्रिटेन पर लगातार हो रहे आतंकी हमलों ने यहां की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठाने शुरू कर दिए हैं। एक के बाद एक हमलों के पीछे आईएसआईएस को जिम्मेदार माना जा रहा है। हमले के बाद पीएम ने कहा कि उनकी संवेदनाएं पीड़‍ितों और उनके परिवार वालों के साथ हैं। वहीं लंदन के मेयर सादिक खान ने कहा है कि रमजान के माह के दौरान अत‍िरिक्त पुलिस फोर्स को तैनात किया गया है और सुरक्षा व्यवस्था को और कड़ा कर दिया गया है।