दिव्‍यांग बच्‍चे को खाना खिलाने वाला ये जवान कौन है, जाने

0
25

श्रीनगर : कहते हैं कि मानवता ही सभी धर्मों की जननी है। इस कहावत को चरितार्थ कर दिखाया है कि एक हेड कॉन्‍स्‍टेबल ने।

इस हेड कॉन्‍स्‍टेबल ने रमजान के महीने में भूख से तड़प रहे दिव्‍यांग कश्‍मीरी बच्‍चे को खाना खिलाकर लोगों को दिल जीत लिया। हेड कॉन्‍स्‍टेबल ने खाना खिलाने के बाद बच्‍चे का मुंह पोछा और उसे पानी भी पिलाया। इस कॉन्‍स्‍टेबल की नेकी का विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है।

हेड कॉन्‍स्‍टेबल इकबाल सिंह सोशल मीडिया पर स्‍टार हो गए हैं। उनके विडियो को जमकर शेयर किया जा रहा है। जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस ने भी उनके इस विडियो को ट्वीट किया।

इसके बाद माना जाने लगा कि हेड कॉन्‍स्‍टेबल इकबाल सिंह जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस में हैं लेकिन हकीकत में वह सीआरपीएफ के निकले। सीआरपीएफ ने ट्वीट करके इसकी पुष्टि की है।

सीआरपीएफ ने कहा, ‘मानवता सभी धर्मों की जननी है। इकबाल सिंह सीआरपीएफ की श्रीनगर सेक्‍टर में तैनात 49वीं बटैलियन में हेड कॉन्‍स्‍टेबल ड्राइवर हैं।

उन्‍होंने दिव्‍यांग कश्‍मीरी बच्‍चे को श्रीनगर के नवकदाल इलाके में खाना खिलाया। खाने के बाद उन्‍होंने पूछा कि क्‍या तुम्‍हें पानी चाहिए? वीरता और संवेदना एक ही सिक्‍के के दो पहलू हैं।’ हेड कॉन्‍स्‍टेबल इकबाल सिंह ने खाना खिलाने के बाद दोपहर में बच्‍चे को चाय भी पिलाई।

बता दें कि कश्‍मीर में अक्‍सर मानवाधिकारों के उल्‍लंघन और अत्‍यधिक बल प्रयोग के आरोप लगते रहते हैं लेकिन हेड कॉन्‍स्‍टेबल इकबाल सिंह के इस नेक काम ने सीआरपीएफ की छवि को बदलने का काम किया है।

बताया जा रहा है उनके इस नेक काम के बाद सीआरपीएफ के आईजी हेड कॉन्‍स्‍टेबल इकबाल सिंह से मुलाकात करने वाले हैं। आईजी उन्‍हें इंसानियत की मिसाल पेश करने के लिए उन्‍हें बधाई देंगे।

इस विडियो को अब तक लाखों लोगों ने देखा है और हेड कॉन्‍स्‍टेबल इकबाल सिंह के काम की भूरि-भूरि प्रशंसा कर रहे हैं। सैंकड़ों लोगों ने अब तक इस विडियो पर कॉमेंट किया है।

परव भट्ट लिखते हैं, ‘भूख का कोई मजहब नहीं होता लेकिन भूखे को खाना खिलाने का तो एक ही मजहब है मानवता।’ राफी खान लिखते हैं, ‘आपको सलाम भाई। आप जैसे लोगों से ही विश्‍व में मानवता पर विश्‍वास बढ़ जाता है।’