Home > India > कोलकाता: फ़्लाईओवर के गिरने से 18 की मौत, हेल्पलाइन नंबर जारी

कोलकाता: फ़्लाईओवर के गिरने से 18 की मौत, हेल्पलाइन नंबर जारी

Kolkata Flyover collapses कोलकाता- एनडीआरएफ़ और सेना को मलबे से लोगों को निकालने में लगाया गया है ! राज्य सरकार ने इस हादसे में मृतकों के परिजनों के लिए 5-5 लाख रुपये और गंभीर रूप से घायलों के लिए 2-2 लाख के मुआवजे का ऐलान किया है ! इसके अलावा सरकार ने हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं ! ये हेल्पलाइन नंबर हैं- 1070, 033-2214-3526, 033-2253-5185, 033-2214-5664.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हादसे पर दुख जताया है, उन्होंने कहा है कि उनकी संवेदनाएं हादसे में मारे गए लोगों के परिवारों के साथ हैं ! वहीं केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बताया कि उन्होंने एनडीआरएफ़ के डीजी से बात कर राहत कार्य का जायज़ा लिया है ! ट्विटर पर राजनाथ सिंह ने जानकारी दी कि उन्होंने प्रधानमंत्री से फ़ोन पर बात की और राहत कार्य के बारे में बताया है !

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी मिदनापुर की रैली कैंसिल कर मौके पर पहुंची ! पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने पुल हादसे पर गहरा दुख जताते हुए पूरे मामले की जांच के आदेश दिए हैं ! विपक्ष के आरोपों पर पलटवार करते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि पुल बनाने का जिम्मा सीपीएम की सरकार के समय दिया गया था ! पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि यह एक गंभीर घटना है ! कानून के मुताबिक काम किया जाएगा ! इस मामले पर एक्सपर्ट इंजीनियर्स की राय ली जाएगी ! ममता बनर्जी ने हादसे के लिए राज्य की पूर्व वामपंथी सरकार को ज़िम्मेदार ठहराते हुए कहा कि वामपंथी सरकार ने 2009 में ये टेंडर पास किया था !
पश्चिम बंगाल सरकार ने हादसे में मरने वाले लोगों के परिवारों के लिए पांच लाख, घायलों के लिए तीन लाख और हल्की चोट वाले लोगों को एक लाख रुपए के मुआवज़े की घोषणा की है !

बताया जाता है कि पुल पिछले छह सालों से तैयार हो रहा था ! समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक फ़्लाईओवर के निर्माण में लगी हैदराबाद की कंपनी आईवीआरसीएल के पांडुरंग राव ने कहा, “ये और कुछ नहीं भगवान का किया है !” ये निर्माणाधीन फ़्लाई ओवर उत्तरी कोलकाता में गणेश टॉकिज़ के पास स्थित था ! आसपास के आम लोग मदद और बचाव के कामों में लगे हुए हैं और मलबे के नीचे दबे लोगों को निकालने की कोशिश कर रहे हैं !

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com