लॉक डाउन: ‘कोई भूखा ना रहे’

लखनऊ की यहां कई आमलोग खाने-पीने का सामान गरीब असहाय बेसहारा लोगों को दिन-रात उपलब्ध करा रहे हैं, उन्हीं में से एक है ऐशबाग निवासी विपिन साहू जो दिन-रात अपनी क्षमता अनुसार अत्यंत गरीब लोगों को कुछ ना कुछ खाने का सामान, ब्रेड मक्खन, पूड़ी-सब्जी तो कभी बिस्कुट पिछले कई दिनों से लगातार बांट रहे हैं।

लखनऊ: चीनी कोरोना वायरस के संक्रमण के इस माहौल में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अपने सीमित संसाधनों से दिन-रात समाज हित में अपना पूर्ण योगदान दे रहे हैं। साथ ही संकट की इस घड़ी में दूत बनकर एक सच्चे हिंदुस्तानी सिपाही की तरह अपना कर्तव्य निभा रहे हैं।

बात करते हैं लखनऊ की यहां कई आमलोग खाने-पीने का सामान गरीब असहाय बेसहारा लोगों को दिन-रात उपलब्ध करा रहे हैं, उन्हीं में से एक है ऐशबाग निवासी विपिन साहू जो दिन-रात अपनी क्षमता अनुसार अत्यंत गरीब लोगों को कुछ ना कुछ खाने का सामान, ब्रेड मक्खन, पूड़ी-सब्जी तो कभी बिस्कुट पिछले कई दिनों से लगातार बांट रहे हैं।

वहीं दूसरी ओर मवैया, चारबाग निवासी संजय मिश्रा अपने घर से कुकर में तहरी-पुलाव बनाकर अपनी स्कूटी से लाकर बेसहारा लोगों को लगातार खिला रहे हैं। संजय हर 2- 3 घंटे में अपने घर से कुकर में तहरी बनाकर लाते हैं और गरीबों को प्रेम से पुरे सुरक्षा मानकों का पालन करते हुए खिला रहे हैं।

इन दोनो का मानना है कि इस संकट की घड़ी में मानव सेवा ही सबसे बड़ा धर्म है। इस भाव को आगे बढ़ाते हुए ये दोनों निस्वार्थभाव से गरीबों, असहायों को भोजन करा रहे हैं।

@शाश्वत तिवारी