CoronaVirus: 30 राज्यों में लॉकडाउन, पीएम करेंगे देश को संबोधित

पीएम मोदी आज रात 8 बजे फिर देश को संबोधित करेंगे। कोरोना वायरस के पहलुओं पर बात करेंगे। बता दें कि पीएम ने इससे पहले 19 मार्च को भी देश को संबोधित किया था। इस दौरान उन्होंने कोरोना से सावधानी बरतने और इसके खिलाफ लड़ाई में जनता की भागीदारी की अपील की थी।उन्होंने कहा था कि 22 मार्च को देशवासी जनता कर्फ्यू का पालन करें। देशभर में उनकी अपील का व्यापक असर भी नजर आया था।

नई दिल्लीः भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। सोमवार को देश में 99 नए मामले सामने आए, जो अभी तक देश में एक दिन में सबसे ज्यादा हैं। इसके अलावा सोमवार को दो और लोगों की मौत के साथ देश में इसकी वजह से होने वाली कुल मौतों का आंकड़ा नौ हो गया। इसके साथ ही देश में कुल कोरोना संक्रमण के मामलों की संख्या 492 हो गई है। इनमें से 246 मामले केवल पिछले तीन दिनों में सामने आए हैं। हालात से निपटने के लिए 30 राज्यों में लॉकडाउन किया गया है, लेकिन कई जगहों पर लोग भारी संख्या में बाजार से सामान खरीदते नजर आए।

पीएम आज फिर करेंगे देश को संबोधित
पीएम मोदी आज रात 8 बजे फिर देश को संबोधित करेंगे। कोरोना वायरस के पहलुओं पर बात करेंगे। बता दें कि पीएम ने इससे पहले 19 मार्च को भी देश को संबोधित किया था। इस दौरान उन्होंने कोरोना से सावधानी बरतने और इसके खिलाफ लड़ाई में जनता की भागीदारी की अपील की थी।उन्होंने कहा था कि 22 मार्च को देशवासी जनता कर्फ्यू का पालन करें। देशभर में उनकी अपील का व्यापक असर भी नजर आया था।

गुजरात में दो नए मामले
गुजरात में कोरोना वायरस के दो नए मरीज मिले। राज्य में कोरोना के मामले बढ़कर 33 हुए। यहां एक शख्स की मौत भी हो चुकी है।

कोरोना वायरस के 446 सक्रिय मरीज
स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश में अभीतक कोरोना वायरस के 446 सक्रिय मरीज, 37 का सफल इलाज हुआ जबकि 9 की मौत हो चुकी है।

महाराष्ट्र में 101 पहुंची संख्या
महाराष्ट्र में कोरोना वायरस पॉजिटिव मामलों की संख्य 101 पहुंची। स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि पुणे में तीन और सतारा में एक नया केस मिला।
पुणे के एपीएमसी मार्केट में वाहनों और लोगों की आवाजाही जारी रही।

प. बंगाल: जरूरी सामान खरीदने पहुंचे लोग
प. बंगाल में लॉकडाउन के बीच लोग जरूरी सामान खरीदने मार्केट पहुंचे। यहां कोरोना से एक शख्स की मौत हो चुकी है। यहां 31 मार्च तक लॉकडाउन है। वहींं, 24 परगना के पानपुर में लोगों पर इसका कोई असर नहीं दिखा।

एयरपोर्ट पर कश्मीरी छात्रों ने किया विरोध
कर्नाटक: कश्मीरी छात्रों के ग्रुप ने बंगलूरू एयरपोर्ट पर घरेलू उड़ानें रद्द किए जाने के फैसले का विरोध किया।
इनका कहना है कि हमने कश्मीर के लिए 27 व 28 मार्च की टिकट बुक कराई थी, अब उड़ानें रद्द कर दी गई हैं। अब हम क्या करें?

 एम्स में आज से ओपीडी बंद, किसी भी सेंटर में नहीं हो सकेगा पंजीयन
कोरोना वायरस से निपटने के लिए एम्स प्रबंधन की बैठकें लगातार जारी हैं। सोमवार को निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया की अध्यक्षता में हुई बैठक के दौरान ओपीडी पर रोक का फैसला लिया गया। हालांकि सफदरजंग और आरएमएल अस्पताल ने फिलहाल ओपीडी पर रोक नहीं लगाई है।

उत्तराखंड में सीमा सील करने की तैयारी
उत्तराखंड में लॉकडाउन को और प्रभावी बनाने के लिए सरकार जल्द प्रदेश की सीमाओं को सील कर देगी। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि इसके बाद प्रदेश से बाहर का व्यक्ति उत्तराखंड नहीं आ सकेगा और न ही प्रदेश से बाहर कोई जा सकेगा।करोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए सरकार जल्द और सख्त कदम उठाएगी। मंत्रिमंडल की बैठक में प्रदेश की सीमाएं सील करने और लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों पर सख्ती से कार्रवाई करने पर सरकार फैसला ले सकती है। उन्होंने कहा कि हालांकि आवश्यक सेवाओं की प्रतिपूर्ति के लिए वाहन आ सकेंगे।

गोवा के मुख्यमंत्री को शुरुआत में नहीं था कोरोना के खतरे का अंदाजा
गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने माना है कि उन्हें शुरुआत में कोरोना के बढ़ते प्रभाव का अंदाजा नहीं था, लेकिन बाद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बुलाई गई मुख्यमंत्रियों की वीडियो कांफ्रेंस के बाद उन्हें इसके बारे में पता चला। सावंत, 20 मार्च तक ज़िला पंचायत चुनावों के लिए प्रचार करते हुए, गोवा के कोने-कोने में सभाएं करते रहे, यहां तक कि उनकी सरकार ने एक हफ्ते पहले ही महामारी अधिनियम लागू किया था। उन्हें इसे लेकर आलोचना भी झेलनी पड़ी क्योंकि वे इस विश्वास के साथ बैठकें कर रहे थे कि केवल विदेश से आने वाले लोग ही संक्रमित होते हैं।

शाहीन बाग: 100 दिनों से जारी धरना खत्म, पुलिस ने उखाड़े टेंट, कई हिरासत में
दिल्ली के शाहीन बाग में पिछले 100 दिन से चल रहे नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) के खिलाफ धरने को बलपूर्वक पुलिस ने हटा दिया है। डीसीपी साउथ ईस्ट ने बताया कि शाहीन बाग में धरना स्थल पर लोगों से अनुरोध किया गया था कि वे इसे खत्म कर दें क्योंकि लॉक डाउन की घोषणा की गई है। लेकिन, उनके मना करने के बाद उल्लंघनकर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई की गई क्योंकि यह धरना गैर-कानूनी था। कई लोगों को हिरासत में लिया गया है।