Home > Election > कांग्रेस ने घोषणा पत्र देश की एकता के लिए खतरा: अरुण जेटली

कांग्रेस ने घोषणा पत्र देश की एकता के लिए खतरा: अरुण जेटली

नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव 2019 के लिए कांग्रेस की ओर से जारी घोषणापत्र में किए गए वादों को केंद्रीय वित्तमंत्री और भाजपा के सीनियर नेता अरुण जेटली ने खतरनाक बताया है। जेटली ने कहा है कि कांग्रेस के घोषणा पत्र से लगता है कि वो देश को तोड़ने वालों के साथ खड़े हैं और ये घोषणा पत्र माओवादियों और जेहादियों की मदद से बनाया गया है। जेटली ने कहा है कि राष्ट्रद्रोह और अफस्पा कानून में बदलाव को लेकर कांग्रेस के वादे देश के हित में नहीं हैं।

कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में कहा है कि भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए (जो की देशद्रोह के अपराध को परिभाषित करती है) जिसका कि दुरूपयोग हुआ, और बाद में नये कानून बन जाने से उसकी महत्ता भी समाप्त हो गई है उसे खत्म किया जाएगा।

इसके अलावा सशस्त्र बलों (विशेष शक्ति) अधिनियम, 1958 में से यौन हिंसा, गायब कर देना तथा यातना के मामलों में प्रतिरक्षा जैसे मुद्दों को हटाया जायेगा ताकि सुरक्षा बलों और नागरिकों के बीच संतुलन बना रहे।

कांग्रेस के इस वादे पर जेटली ने कहा है कि कांग्रेस का घोषणा पत्र देश की एकता के लिए किसी बड़े खतरे से कम नहीं है। अफस्पा कानून उसी जगह पर लगा है जहां पर अशांति है। ऐसे में उन जगहों पर कानून को बदलना किसी खतरे से कम नहीं होगा। देशद्रोह का कानून हटाना भी सही नहीं है। जेटली ने कहा कि इससे पहले ऐसा अपराध किसी पार्टी ने नही किया जो कांग्रेस ने मेनिफेस्टो के जरिए किया है। कांग्रेस जो कश्मीर पर करने की बात कर रही है उसे देश स्वीकार नहीं करेगा। आर्म्ड फ़ोर्स के विशेष प्रावधान पर जो मेनिफेस्टो में कहा गया है उसे हटा दिया जाएगा, ये खतरनाक है।

अरुण जेटली ने कहा कि जो कांग्रेस पार्टी और नेहरू गांधी परिवार ने जम्मू-कश्मीर को लेकर जो निर्णय लिया था वह ऐतिहासिक भूल थी। अब एक बार फिर घोषणा पत्र में उस एजेंडे को और खतरनाक तरीके से आगे बढ़ाने की तैयारी है। जेटली ने पूछा कि क्या राहुल गांधी ने ‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ से पार्टी का घोषणा पत्र बनवाया है। जेटली ने कहा कि कांग्रेस का आज का नेतृत्व जिहादियों और माओवादियों के चंगुल में है। वो घोषणा पत्र में कह रहे हैं कि देशद्रोह करना अब अपराध नहीं है। कांग्रेस की न्याय योजना पर जेटली ने कहा कि इस योजना की कुछ और बातें आज सामने आई हैं। ये केंद्र की योजना नहीं है इसके साधन केंद्र से भी आएंगे और राज्य से भी आएंगे। ये तो पहले दिन कांग्रेस ने नहीं कहा था कि ये केंद्र और राज्य की संयुक्त स्कीम है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने मंगलवार को पार्टी का घोषणा पत्र जारी किया है। कांग्रेस के घोषणा पत्र को ‘जन घोषणापत्र-2019’ नाम दिया गया है। इस मौके पर घोषणा पत्र कमेटी के सदस्य राजीव गौड़ा ने बताया कि NRI नागरिकों से बात की, हर क्षेत्र के एक्सपर्ट, दलित, अल्पसंख्यक, डॉक्टर, व्यापारियों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए लोगों से सुझाव लेकर ये घोषणा पत्र बनाया है।

Scroll To Top
Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com