Home > Business > कर्ज बढ़ने से बीओआई को हुआ 3,587 करोड़ का नुकसान

कर्ज बढ़ने से बीओआई को हुआ 3,587 करोड़ का नुकसान

मुंबई: बैंक ऑफ इंडिया (बीओआई) का 31 मार्च को समाप्त चौथी तिमाही का शुद्ध नुकसान कई गुना बढ़कर 3,587 करोड़ रूपए पर पहुंच गया। वहीं डूबा कर्ज बढ़ने से बैंक का घाटा भी बढ़ा है। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक को 56.14 करोड़ रूपए का नुकसान हुआ था।

तिमाही के दौरान बीओई की कुल आय 12,286.98 करोड़ रूपए से घटकर 11,384.91 करोड़ रूपए पर आ गई। मार्च, 2016 के अंत तक बैंक की सकल गैर निष्पादित आस्तियां या डूबा कर्ज दोगुना से अधिक होकर 49,879.13 करोड़ रूपए पर पहुंच गया। यह सकल ऋण का 13.07 प्रतिशत है। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक का एनपीए 22,193.24 करोड़ रूपए या सकल ऋण का 5.39 प्रतिशत था।

समीक्षाधीन तिमाही में बैंक का शुद्ध एनपीए 27,776.40 करोड़ रूपए या शुद्ध ऋण का 7.79 प्रतिशत रहा। जो एक साल पहले समान तिमाही में 13,517.57 करोड़ रूपए या 3.36 प्रतिशत था। रिजर्व बैंक की संपत्ति की गुणवत्ता की समीक्षा एक्यूआर दिशानिर्देशों के अनुसार ठव्प् ने डूबे कर्ज तथा अन्य आकस्मिक खर्चों के लिए अपना प्रावधान तिमाही के दौरान बढ़ाकर 5,470.36 करोड़ रूपए कर दिया है, जो एक साल पहले समान तिमाही में 2,255.49 करोड़ रूपए था।

दस प्रतिशत से अधिक एनपीए की वजह से रिजर्व बैंक को तत्काल सुधारात्मक कार्रवाई के लिए कदम उठाना पड़ सकता है। पूरे वित्त वर्ष 2015-16 में बैंक का शुद्ध घाटा 6,089 करोड़ रूपए रहा है जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष में बैंक ने 1,708.92 करोड़ रूपए का शुद्ध लाभ कमाया था। वित्त वर्ष के लिए बैंक ने कोई लाभांश घोषित नहीं किया है। वित्त वर्ष के दौरान बैंक की कुल आय घटकर 45,449.01 करोड़ रूपए पर आ गई जो इससे पिछले वित्त वर्ष में 47,662.61 करोड़ रूपए रही थी। बीओआई

Scroll To Top
Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com