कोरिया में आदिकाल से विराजमान दुख हरने वाली माँ महामाया

कोरिया : कोरिया जिले के खड़गवाँ ग्राम में चनवारीडाण स्थित महामाया मंदिर जो अपने आप में चमत्कारी हैं। भक्तों का दुख हरने वाली माँ महामाया जो आदिकाल से विराजमान है चैत नवरात्र में 9 दिन माँ के मंदिर में भक्तों का तांता लगा रहता है।

चैत नवरात्र प्रारंभ होते ही महामाया मंदिर में न जाने भक्तगण दूर-दूर से आते हैं इस मंदिर की विशेषता यह है कि मां के दरबार में जो भी आता है उसकी मनोकामना मां पूरा करती हैं ग्रामीणों का कहना है कि राजा को सपना हुआ था और उसके तालाब मां महामाया का पौराणिक मूर्ति जमीन खुदवाने से मिला उस समय से ही माताजी का स्थापना किया गया और पौराणिक काल से ही इस महामाया मंदिर का चमत्कारी स्वरूप देखने को मिलता है घी ,तेल का 9 दिन अखंड ज्योत भक्तों के द्वारा प्रज्वलित किया जाता है अष्टमी नवमी दशमी तिथि पर विशेष भंडारा का व्यवस्था भी किया जाता है यह मंदिर अपने आप में अनोखा है।

रिपोर्ट- सँजय गुप्ता