मध्य प्रदेश में सत्ता में बदलाव से संत समाज खुश है। शिवराज सरकार के खिलाफ लगातार मोर्चा खोलने वाले कंप्यूटर बाबा ने अब पीएम नरेंद्र मोदी को राम मंदिर के नाम पर चुनौती दे दी है।

कंप्यूटर बाबा के साथ बड़ी संख्या में साधु-संत शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचे। सरगर्मी इतनी ज़्यादा है कि खुद दिग्विजय सिंह कंप्यूटर बाबा से मिलने पहुंचे।

शिवराज सरकार में राज्य मंत्री का दर्जा प्राप्त कंप्यूटर बाबा ने बाद में शिवराज सिंह चौहान की नाक में दम कर दिया था।

कंप्यूटर बाबा इतने नाराज़ हो गए थे कि उन्होंने शिवराज सरकार बदलने का आह्वान कर दिया था। धरना-प्रदर्शन, चेतावनी सब उन्होंने दिया था।

अब जबकि प्रदेश में सरकार बदल गई है, तो कंप्यूटर बाबा अपनी खुशी का इज़हार करते हुए भोपाल पहुंचे। कमलनाथ ने भी उन्हें पूरी तवज्जो दी और शपथ ग्रहण समारोह में मंच पर बैठाया।

कंप्यूटर बाबा के साथ संतों की भारी भीड़ है। ये संत शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने पहुंचे।

संत कमलनाथ से कंप्यूटर बाबा को कैबिनेट मंत्री बनाने की मांग कर सकते हैं। कंप्यूटर बाबा भी मंत्री बनने के लिए तैयार दिखे।

वे बोले मंत्री पद देना सरकार के हाथ में है। संत समाज को आने वाली सरकार पर पूरा भरोसा है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ की सरकार को हिला पाने का दम किसी में नहीं है।

शपथ ग्रहण समारोह की गहमागहमी के बीच कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह कंप्यूटर बाबा से मिलने पहुंचे। उन्होंने भरोसा दिलाया कि सरकार संतों की नाराज़गी दूर करेगी दूर।