नाबालिग का अपहरण कर सामूहिक दुष्कर्म, एक गिरफ्तार

हरियाणा में नूंह (मेवात) जिले के फिरोजपुर झिरका में अपहरण कर नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है।

फिरोजपुर झिरका में एक के बाद एक अपहरण, छेड़छाड़ और सामूहिक दुष्कर्म के मामले सामने आने से पुलिस और प्रशासन के हाथ पांव फूले हुए हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक बीते शुक्रवार को 11वीं कक्षा की छात्रा सब्जी मंडी में किसी काम से गई थी। तभी उस दौरान बाइक पर सवार दो लड़कों ने उसका अपहरण कर लिया।

इसके बाद वे उसे भोंड रोड पर बने ज्वार के खेत में ले गए, जहां दोनों ने बारी-बारी से नाबालिग का रेप किया।

लड़की ने जब शोर मचाया तो वहां पास में गाय चरा रही एक महिला उसकी मदद के लिए आगे बढ़ी, तब तक दोनों आरोपी बाइक लेकर मौके से फरार हो गए।

इधर, पुलिस ने पीड़ित परिवार की शिकायत के आधार पर आफरीदी पुत्र जैकम निवासी भोंड और एक अज्ञात के खिलाफ आईपीसी (IPC) की धारा 365, 506, 34, पॉक्सो एक्ट (POCSO Act) के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

फिलहाल, लड़की को मेडिकल के लिए भेजकर पुलिस आरोपी युवकों की तलाश में जुट गई है।

हालांकि, एसएचओ फिरोजपुर झिरका हरिसिंह ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि आरोपी आफरीदी की गिरफ्तारी की जा चुकी है, लेकिन दूसरे अज्ञात आरोपी की तलाश जारी है। उसे भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

मालूम हो कि फिरोजपुर झिरका में इन दिनों लगातार घट रही घटनाओं की वजह से पुलिस सकते में है।

इधर, जिला प्रशासन हालात को भांपते हुए पत्रकारों की मारपीट मामले को छोड़कर सभी में तुरंत मुकदमा दर्ज कर जांच आगे बढ़ा रहा है।

आगामी 25 अगस्त को शहरवासियों की तरफ से महापंचायत का ऐलान होने की वजह से सुरक्षा के इंतजाम कड़े कर दिए गए हैं। हालात को देखते हुए डीसी और एसपी लगातार मामले पर नजर बनाए हुए हैं।

दरअसल, फिरोजपुर झिरका में यह सारा नजारा एक प्रेम विवाह के बाद उपजा है। इसमें कई दिनों से सड़क जाम, धरना प्रदर्शन से लेकर पुलिस से हल्की नोकझोंक और पत्रकारों से मारपीट तक की घटनाएं सामने आ चुकी हैं।

इसके अलावा एक लड़की से छेड़छाड़ के बाद आरोपी युवक को पकड़ना और उसके अगले ही दिन एक अन्य युवती के साथ रेप की घटना सामने आने से माहौल और गर्मा गया है।

रविवार को होने वाली महापंचायत पर हिन्दू पक्ष की और शासन-प्रशासन के साथ साथ मुस्लिम समुदाय भी महापंचायत के फैसले का इंतजार कर रहा है।

खबरें मिल रही हैं कि मुस्लिम समाज भी जल्द बड़ी पंचायत कर बड़े फैसले ले सकता है। मुस्लिम समाज हर सूरत में भाईचारे को कायम रखने के लिए हिन्दू पक्ष प्रशासन का सहयोग कर रहा है।