प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को यहां कहा कि कांग्रेस कहती है कि नेहरू (प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू) के कारण एक चाय वाला प्रधानमंत्री बना है और यदि यह सच है व कांग्रेस में लोकतंत्र है कि तो वह गांधी परिवार के बाहर से किसी को पार्टी अध्यक्ष बना कर दिखाए।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस भाई से भाई को लड़ाने का काम करती है।सरगुजा संभाग के अंबिकापुर विधानसभा क्षेत्र में एक सार्वजनिक सभा को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, “कांग्रेस कहती है कि नेहरू के कारण एक चाय वाला देश का प्रधानमंत्री बना है।

यदि यह बात सही है और कांग्रेस में लोकतंत्र है तो मैं उन्हें (कांग्रेस) चुनौती देता हूं कि गांधी परिवार से बाहर के किसी व्यक्ति को पार्टी का अध्यक्ष बनाकर दिखाएं।”

मोदी ने कहा कि कांग्रेस लोगों को आपस में लड़ाने का काम करती है, यहां तक कि भाई को भाई से लड़ाती है।

राज्य विधानसभा के प्रथम चरण के चुनाव में नक्सल इलाकों में हुए मतदान पर मोदी ने कहा, “नक्सलियों ने वोट डालने पर उंगली काटने की धमकी दी थी।

जनता ने नक्सलियों की धमकी का जवाब दिया। बस्तर के लोगों का गौरवगान करना चाहिए। लोकतंत्र की ताकत को जनता ने सिद्ध किया है।”

मोदी ने कहा, “दिग्गी राजा (दिग्विजय सिंह) के राज में मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में कोई काम नहीं हुआ। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की अजीत जोगी सरकार ने कोई काम नहीं किया।

कांग्रेस मुझसे चार सालों को हिसाब मांगती है तो पहले वह अपने चार पीढ़ियों के कामों का हिसाब दे। जो काम वे 10 साल में कर सकते थे, हमने साढ़े चार साल में कर दिया। हमारी सरकार में तेजी से काम हो रहा है।

उन्होंने कहा, “भाजपा की सरकार किसी के साथ भेदभाव नहीं करती। भाजपा सबका साथ सबका विकास चाहती है। कांग्रेस समझती है कि अंग्रेजों ने उन्हें देश सौंपा था।

सरकार को लोगों से भेदभाव नहीं करना चाहिए। भाजपा सरकार के काम से लाभार्थियों को चरणबद्ध तरीके से पैसा मिल रहा है। हमने महिलाओं के नाम पर आवास दिया।

सरगुजा के 22 हजार लोगों को आवास मिला। गरीबों को मकान मिल जाए तो खुशी होती है। मोदी, रमन के कारण लोगों को फायदा हो रहा है।”

मोदी ने नोटबंदी पर कहा, “बेईमानी से लूटा गया पैसा जनता को लौटाना होगा। पहले काम भी इसलिए नहीं होता था कि वे लोग बिस्तर और थैलों में नोट भरकर रखते थे।

उन्होंने जनता का पैसा बिस्तर के नीचे दबाए रखा। नोटबंदी के नाम पर कांग्रेस नेता अभी भी रो रहे हैं। जब तक पैसा नहीं लौटा देते मोदी रुकने वाला नहीं है।”