Home > India > 8 हजार से ज्यादा जल स्रोतों का शुद्धिकरण

8 हजार से ज्यादा जल स्रोतों का शुद्धिकरण

Madhya Pradesh Mandla News In Hindiमण्डला- वर्षा ऋतु में दूषित जल से होने वाले संक्रामक रोगों की रोकथाम के प्रति जिला प्रशासन अब सजग हुआ है। जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल स्रोत के शुद्धिकरण का कार्य युद्धस्तर पर किया जा रहा है। इसी क्रम में कलेक्टर श्रीमति प्रीति मैथिल के निर्देश पर प्रत्येक शुक्रवार को एक साथ जिले के हैंडपम्प, कुंऐ और नल जल योजनाओं में जल शुद्धिकरण के लिये क्लोरीन (जर्मेक्स) दवाई का घोल डाला जा रहा है। इसके साथ ही आशा कार्यकर्त्ता, एएनएम, रोजगार सहायक, सचिव एवं अन्य मैदानी अमला घर घर जाकर लोगों को पेयजल शुद्धिकरण के तरीके एवं शुद्ध पेयजल ही उपयोग करने की सलाह दे रहा है।

5 अगस्त से शुरू हुए इस कार्यक्रम के तहत जिले की मण्डला जनपद में 4, नैनपुर में 4, बिछिया में 40, निवास में 6, नारायणगंज में 6, बीजाडांडी में 6, मोहगांव में 2, मवई में 6 और घुघरी में 6 दल गठित किये गये। प्रत्येक दल में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के टेक्निशियन एवं मैकेनिक के माध्यम से जल शुद्धिकरण (क्लोरीनेशन) का कार्य कराया गया। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ जे विजय कुमार, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी के कार्यपालन यंत्री श्री तिडगाम, अनुविभागीय अधिकारी श्री डोंगरे लगातार जल स्रोतों के शुद्धिकरण कार्य का अवलोकन करते रहे। कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी श्री तिडगाम ने बताया कि जिले में 7 हजार 309 हैण्डपम्प, 3 हजार 515 कुंऐ और 46 नलजल योजनाओं का शुद्धिकरण किया जा रहा है।

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग मण्डला से प्राप्त जानकारी के अनुसार शुद्धिकरण अभियान के प्रथम शुक्रवार को लगभग 8 हजार से अधिक जल स्रोतों का क्लोरीनेशन किया गया है इनमें मण्डला जनपद पंचायत में 481 हैण्डपम्प और 276 कूप, मोहगांव में 373 हैण्डपम्प और 485 कूप, मवई में 417 हैण्डपम्प और 50 कूप, घुघरी में 576 हैण्डपम्प और 200 कूप, नैनपुर में 1108 हैण्डपम्प और 248 कूप, नारायणगंज में 860 हैण्डपम्प और 53 कूप, बीजाडांडी जनपद पंचायत में 839 हैण्डपम्पों, निवास में 694 हैण्डपम्पों और 4 कूप तथा बिछिया जनपद पंचायत में 1162 हैण्डपम्प और 778 कूपों में क्लोरीनेशन किया गया। जल स्रोतों के शुद्धिकरण कार्य की मॉनीटरिंग के लिये कलेक्टर श्रीमति प्रीति मैथिल द्वारा अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, तहसीलदार एवं नायब तहसीलदारों को उनके कार्य क्षेत्रों में ग्राम पंचायतें आवंटित कर क्लोरीनेशन कराने के निर्र्देश दिये गये हैं।
रिपोर्ट- @सैयद जावेद अली




Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com