Home > India News > एमपी कलेक्टरों की सुस्ती की भेंट चढ़ी ये मंदिर योजना !

एमपी कलेक्टरों की सुस्ती की भेंट चढ़ी ये मंदिर योजना !

Demo-Pic

Demo-Pic

भोपाल- मुंबई के सिद्धि विनायक मंदिर की तर्ज पर मध्यप्रदेश के महाकालेश्वर मंदिर समेत छह देवालयों के नाम डीमैट खाते खोलने की नवाचारी योजना जिलाधिकारियों के कथित सुस्त रवैये के कारण अब तक परवान नहीं चढ़ सकी है।

यह भी पढ़ें- ‘जनसुनवाई’ के इस नियम से अनजान कलेक्टर्स या लापरवाही !

प्रदेश के धार्मिक न्यास और धर्मस्व विभाग के अपर सचिव राजेंद्र सिंह ने कहा, ‘हम उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर, खंडवा के ओंकारेश्वर मंदिर, सीहोर जिले के सलकनपुर स्थित बिजासन देवी मंदिर, सतना जिले के मैहर देवी मंदिर, इंदौर के खजराना गणेश मंदिर और टीकमगढ़ जिले के ओरछा स्थित रामराजा मंदिर के नाम डीमैट अकाउंट खोलने की योजना पर विचार कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें- कलेक्टर बने केवल कलेक्ट करने वाले 

उन्होंने कहा कि धार्मिक न्यास और धर्मस्व विभाग ने सभी छह जिलों के कलेक्टरों को जून में पत्र लिखकर कहा था कि वे इस योजना का परीक्षण कर सात दिन के भीतर अपनी राय भेजें। लेकिन महकमे को जिलाधिकारियों का अभिमत अब तक नहीं मिल सका है।

यह भी पढ़ें- कलेक्टर ने महाअष्टमी पर मदिरा से की पूजा

राजेंद्र सिंह ने कहा, ‘हम संबंधित कलेक्टरों को इस बारे में स्मरण पत्र भेजकर दोबारा उनसे अभिमत मांगेंगे। ‘

प्रदेश के छह मंदिरों के प्रस्तावित डीमैट अकाउंट खुलने के बाद भक्त भगवान के नाम पर शेयर और प्रतिभूतियां भी दान कर सकेंगे। इससे मंदिरों की आय में इजाफा होगा। [एजेंसी]




Facebook Comments
Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com