भाजपा पर भड़के उद्धव ठाकरे, कहा- सत्ता प्राप्ति के लिए किसी भी हद तक गिर जाना ये हिंदुत्व नहीं होता

सीएम ने लिखा है कि आज देश में लोग एक दूसरे को मार रहे हैं और देश में अशांति का माहौल है, ये उनका हिंदुत्व नहीं है, जिन लोगों ने सत्ता हथियाने के लिए हिंदुत्व की गलत व्याख्या की, वे हिंदुत्व के हिमायती नहीं है, जो कुछ भी हो रहा है वो गलत हो रहा है, सत्ता प्राप्ति के लिए किसी भी हद तक गिर जाना ये हिंदुत्व नहीं होता है, आज लोभ और नफरत की बातें हो रही हैं, जो कि सरासर गलत है, धर्म का इस्तेमाल करके, होली जलाकर सत्ता हासिल करना मेरा हिन्दुत्व नहीं है।

मुंबई: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एक बार फिर से भाजपा पर तीखा वार किया है, पार्टी के मुखपृष्ठ सामना में छपे लेख में उद्धव ने कहा कि मेरी और भाजपा की सोच एक जैसी नहीं है, मेरा हिंदुत्व बीजेपी के हिंदुत्व से अलग है, धर्म का इस्तेमाल करना और सत्ता हथियाना मेरा हिंदुत्व नहीं है, मैं एक ऐसा हिंदूराष्ट्र नहीं चाहता जो शांतिपूर्ण न हो, मैं ऐसे हिंदू राष्ट्र की परिकल्पना भी नहीं करता हूं, हमारी परिकल्पना में राष्ट्र के लोगों की खुशी समाहित है, जिसमें वो निडर होकर रहें।

सीएम ने लिखा है कि आज देश में लोग एक दूसरे को मार रहे हैं और देश में अशांति का माहौल है, ये उनका हिंदुत्व नहीं है, जिन लोगों ने सत्ता हथियाने के लिए हिंदुत्व की गलत व्याख्या की, वे हिंदुत्व के हिमायती नहीं है, जो कुछ भी हो रहा है वो गलत हो रहा है, सत्ता प्राप्ति के लिए किसी भी हद तक गिर जाना ये हिंदुत्व नहीं होता है, आज लोभ और नफरत की बातें हो रही हैं, जो कि सरासर गलत है, धर्म का इस्तेमाल करके, होली जलाकर सत्ता हासिल करना मेरा हिन्दुत्व नहीं है।

ठाकरे ने कहा कि अगर हमने एनआरसी का विरोध किया तो इसका मतलब यह हो गया कि हम राष्ट्रद्रोही हैं और अगर हमने समर्थन दिया तो इसका मतलब आप देशभक्त, हो गए, ऐसा नहीं होता, एनआरसी लाने की हिम्मत है क्या इनमें? उन्हें ऐसा दिखाना है कि हम घुसपैठियों को निकालना चाहते हैं परंतु ये निकालने नहीं दे रहे हैं अर्थात ये देशद्रोही हैं।

नागरिकता सिद्ध करना सिर्फ मुसलमानों तक सीमित नहीं है बल्कि हिंदुओं को भी परेशानी होगी, मैं उस कानून को आने नहीं दूंगा,उद्धव ने कहा कि मैं एनआरसी इसलिए नहीं आने दूंगा क्योंकि इसमें हिंदू भी पीसे जाएंगे, मैं सीएम रहूं ना रहूं लेकिन गलत चीज बर्दाश्त नहीं करूंगा और एनआरसी का विरोध करता रहूंगा, मेरे हिन्दू राष्ट्र की व्याख्या अलग है. यह हिन्दुत्व मेरे पिता द्वारा सिखाया गया नहीं है