बीजेपी सांसद ने शहीद की बेटी की तुलना दाऊद से की - Tez News
Home > State > Delhi > बीजेपी सांसद ने शहीद की बेटी की तुलना दाऊद से की

बीजेपी सांसद ने शहीद की बेटी की तुलना दाऊद से की

नई दिल्ली- रामजस कॉलेज में हिंसा के खिलाफ सोशल मीडिया कैंपेन चलाने वाली डीयू की छात्रा गुरमेहर कौर को सोशल मीडिया पर ही जान से मारने और दुष्कर्म की धमकियां मिल रहीं हैं। लेडी श्रीराम कॉलेज में पढ़ने वाली गुरमेहर कौर ने फेसबुक पर एबीवीपी की कड़ी आलोचना की है।

देश के लिए शहीद कैप्टन की बेटी को देश भक्त दे रहे गालियां !

गुरमेहर का कैंपेन सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस मामले में नया विवाद खड़ा हो गया है। मैसूर से बीजेपी सांसद प्रताप सिम्हा ने गुरमेहर कौर की तुलना दाऊद इब्राहिम से करते हुए ट्वीट किया।

गृह मंत्रालय ने जवानों को शहीद मानने से किया इंकार

गुरमेहर कौर का कहना है कि कैंपन चलाने के बाद जो लोग इससे नाराज हैं वो उनको और उनकी सहेलियों को बलात्कार की धमकी दे रहे हैं। साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि मुझे राष्ट्रविरोधी कहा जा रहा है और मेरा मजाक उड़ाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि ये सब डराने वाला है, जब कोई आपको हिंसा या दुष्कर्म की धमकी देने लगे।

गुंडों का खौफ, थाना छोड़ भागी पुलिस

गौरतलब है कि बीते बुधवार को रामजस कॉलेज के सेमिनार में जेएनयू के छात्र उमर खालिद को वक्ता के तौर पर बुलाए जाने का एबीवीपी के छात्र विरोध करने पहुंचे थे। विरोध हिंसक होने पर करीब 20 छात्र घायल हो गए थे। उमर खालिद राजद्रोह के मामले में आरोपी हैं। डीयू की छात्रा गुरमेहर ने 140 शब्दों के फेसबुक पोस्ट में पूरे मामले का जिक्र किया था। गुरमेहर का फेसबुक कैंपेने सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है।

कचरे के ढेर में फेंक दिए शहीदों की वर्दी, जूते, बैच

वायरल हुआ संदेश
एक लंबे पोस्ट के साथ उन्होंने तख्ती पकड़े हुए अपनी फोटो प्रोफाइल पिक्टर के तौर पर लगाई है। तख्ती पर लिखा है कि मैं दिल्ली यूनिवर्सिटी की छात्रा हूं। मैं तंग सोच की सियासी विचारधारा को अपने कैंपस और अधिकारों का अपहरण नहीं करने दूंगी। देश का हर स्टुडेंट मेरे साथ है।

जूते पॉलिस करवाते हैं बड़े अफसर

देश भर में हजारों छात्रों ने गुरमेहर को फॉलो करते हुए अपनी प्रोफाइल तस्वीर को उनके ही अंदाज में बदला है। फेसबुक के अलावा ट्विटर और इंस्टाग्राम पर #StudentsAgainstABVP के तहत हजारों प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। वहीं कुछ लोग उनके इस कैंपेन से नाराज भी हैं जो सोशल मीडिया पर उनके खिलाफ लिख रहे हैं।

आपको बता दें कि गुरमेहर कौर के पिता मंदीप सिंह सेना में कप्तान थे और 1999 में करगिल की लड़ाई में शहीद हो गए थे। लुधियाना की रहने वाली गुरमेहर को राजनीति में आने से कोई परहेज नहीं है, लेकिन वो लेखक बनना चाहती हैं। [एजेंसी]

Copyright @teznews.com. Designed by Lemosys.com